पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डबरी के पानी से मवेशियों की मौत की आशंका:टीम को मछलियां मरी मिलीं, जहरीली दवा डालने की चर्चा, कोरबी पहुंची 5 सदस्यीय जांच टीम ने लिया पानी का सैंपल

कोरबा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जांच टीम ने डबरी पहुंचकर पानी के लिए सैंपल। - Dainik Bhaskar
जांच टीम ने डबरी पहुंचकर पानी के लिए सैंपल।
  • रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल सकेगा

कोरबी में मवेशियों की मौत का कारण कहीं डबरी का जहरीला पानी तो नहीं है, क्योंकि बुधवार को गांव पहुंची पशुपालन विभाग की 5 सदस्यीय टीम को डबरी में सैकड़ों मछलियां मरी हुई मिलीं। इसीलिए टीम ने पानी का सैंपल लिया है। रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल सकेगा कि पानी में जहरीली दवा तो नहीं डाली गई है। पोड़ी-उपरोड़ा ब्लॉक के कोरबी में एक के बाद एक 50 मवेशियों की मौत के मामले को प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। मौत की वजह अभी स्पष्ट नहीं हो पाई है।

मृत मवेशियों की हुई पोस्टमार्टम व पानी के सैंपल रिपोर्ट आने के बाद ही जांच टीम किसी नतीजे पर पहुंचेगी। ग्रामीणों ने बताया कि कई पशुपालकों के कई मवेशी बीमार हैं, जिनका इलाज चल रहा है। इधर कोरबी पहुंची जांच टीम ने गांव की डबरी में सैकड़ों मछलियां मरी हुई मिलीं, जो पानी के ऊपर बह रही थीे। जहरीली दवा को नदी या तालाब के पानी में मिलाकर मछली पकड़ी जाती हैं।

ऐसे में आशंका यह भी है कि डबरी के पानी को पीना भी मवेशियों की मौत का कारण हो सकता है। पानी का सैंपल लिया गया है। इसे जांच के लिए भेजा जाएगा। एसडीएम संजय मरकाम की अध्यक्षता में बनी टीम में डॉ. एसपी सिंह समेत तहसीलदार व जनपद पंचायत के सीईओ सदस्य हैं।

गो-सेवा आयोग के सदस्य भी पहुंचे कोरबी

गो-सेवा आयोग के सदस्य प्रशांत मिश्रा भी कोरबी पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों से बात की तो पता चला कि अभी भी गांव के कई पशुपालकों के मवेशी बीमार हैं जिनका इलाज जारी है। उन्हें ग्रामीणों ने बताया कि कोरबी क्षेत्र के करीब 200 मवेशियों का टीकाकरण हुआ था। एक किसान के टीका लगे 68 मवेशियों में से 35 की मौत हो गई है। तालाब में पानी पीने के बाद मवेशियों की तबियत खराब होने की जानकारी भी सामने आई है।

खबरें और भी हैं...