लापरवाही:जिले की 5 सीमाओं में कहीं भी नहीं हो रही कोराेना की जांच

बैकुंठपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मध्यप्रदेश की सीमा से लगे कोरिया जिले के भरतपुर ब्लाॅक में सैकड़ों लोग कर रहे आवाजाही और यहीं सबसे कम पाॅजिटिव केस

कोरिया जिले के भरतपुर-मनेंद्रगढ़ ब्लाॅक से मध्यप्रदेश राज्य की सीमाएं 5 जगहों से लगती है, लगातार हर दिन सैकड़ों की संख्या में लोगों का आना-जाना यहां से हो रहा है, लेकिन फिर सबसे कम कोरोना पाॅजिटिव केस भरतपुर ब्लाॅक में मिल रहे हैं। एैसे में आशंका जताई जा रही है कि यदि भरतपुर ब्लाॅक में जांच की संख्या बढ़ाए गई, तो यहां संक्रमितों की संख्या अचानक बढ़ सकती है।

बीते 5 दिन के औसत आंकड़े पर नजर डालें तो पाॅजिटिव केस 5 से 6 ही मिले हैं। कोरिया जिला छत्तीसगढ़ के सूरजपूर, कोरबा और मध्यप्रदेश राज्य अनूपपुर के राजनगर समेत शहडोल और सीधी जिले से लगा हुआ है। मध्यप्रदेश से लगे कोरिया जिले के जनकपुर ब्लाॅक के तीन गांव कुंवारपुर, माथमौर, कोइलरा गांव को पूरी तरह सील करने की बात कही जा रही है, लेकिन यहां आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी रमाशंकर मिश्रा ने बताया कि लोगों को आना-जाना हो रहा है। हालांकि यहां क्वारेंटाइन सेंटर बनाया है।

पाॅजिटिव केस मिलने पर मरीजों को होम आइसोलेट भी किया जा रहा है, लेकिन जांच कम होने से पाॅजिटिव केस भी कम सामने आ रहे हैं। दूसरी ओर मध्यप्रदेश से लोग सांठ-गांठ कर भरतपुर ब्लाॅक की कई पंचायतों में दाखिल हो रहे हैं।

23 से 27 अप्रैल के बीच भरतपुर में औसत मिले 5 संक्रमित

अप्रैल में जब शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में पाॅजिटिव की संख्या लगातार बढ़ रही है, तो भरतपुर ब्लाॅक में बीते 5 दिन में सिर्फ 28 कोरोना पाॅजिटिव के मामले ही सामने आए हैं। अब ये आंकड़े लापरवाही के कारण सामने आ रहे हैं या मध्यप्रदेश से दाखिल होने वाले लोग कोरिया जिले में आने के बाद जानकारी छिपा रहे हैं। यहां के ग्रामीणों की मानें तो जांच और कांट्रेक्ट ट्रेसिंग नहीं होने के कारण पाॅजिटिव केस के मामले कम सामने आ रहे हैं।

पगडंडी की भी निगरानी नहीं

11 अप्रैल से शुरू हुए लॉकडाउन से पहले सरहदी इलाकों के सरपंच, सचिवों की स्थानीय अधिकारियों ने कोई बैठक नहीं ली है। यही वजह है कि इस बार के लॉकडाउन में दूसरे राज्य से लगी कोरिया जिले की पंचायतों की सड़क, पगडंडी समेत सारे रास्ते पर बैरियर लगाने नहीं लगाए और निगरानी भी नहीं की जा रही है। इससे लोग मध्यप्रदेश से आसानी से आवाजाही कर रहे हैं।

लापरवाहों खिलाफ होगी कार्रवाई

कलेक्टर एसएन राठौर ने इस बारे में कहा है कि सभी कोरिया जिले से लगी सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है। कोई भी लापरवाही अफसरों से होती है, तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...