खतरा बढ़ा / आगरा और पुणे से आए 9 प्रवासी श्रमिक कोरोना पाॅजिटिव मिले, जिले में 12 केस

X

  • मुंगेली में 10 और लोरमी में 2 कोरोना पॉजिटिव, 3 किमी क्षेत्र सील, सभी मरीजों को रायपुर किया शिफ्ट

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

मुंगेली. शनिवार शाम तक मुंगेली जिला 3 पॉजिटिव मरीजों के मिलने के साथ ऑरेंज जोन में था, लेकिन देर शाम आई रिपोर्ट के बाद अब जिला रेड जोन में आ सकता है। देर शाम आई रिपोर्ट में जिले में 9 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। 
इसके बाद से जिले में हड़कंप मच गया है। छत्तीसगढ़ शासन स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग राज्य कंट्रोल और कमान सेंटर ने शनिवार शाम को प्रदेश में 42 नए कोविड संक्रमित मरीजों की सूची जारी की। इसमें मुंगेली के 9 प्रवासी श्रमिक पाॅजिटिव पाए गए। इसकी पुष्टि कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे ने की। साथ ही यह भी बताया कि सभी प्रवासी श्रमिक क्वारेंटाइन सेंटर के हैं।उन्होंने आगे बताया कि ये प्रवासी श्रमिक पुणे और आगरा से आए थे, जो क्वारेंटाइन सेंटर में हैं। इन 9 प्रवासी श्रमिकों में 7 पुरुष और 2 महिलाएं है। ये सभी 9 श्रमिक मुंगेली ब्लॉक के हैं। इनमें से 5 श्रमिक महाराणा प्रताप वार्ड पेण्डाराकापा, 3 श्रमिक सम्बलपुर और 1 श्रमिक चातरखार के हैं, जो क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे हैं। अब मुंगेली जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3 से बढ़कर 12 हो गई है। इससे मुंगेली जिला रेड़ जोन में शामिल हो सकता है।
सभी क्वारेंटाइन सेंटर क्षेत्र सील अब फिर होगी श्रमिकों की जांच
एकसाथ 9 पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद प्रशासन ने शहरी क्षेत्र के क्वारेंटाइन सेंटर को सील कर दिया है। वहीं चिन्हांकित पाॅजिटिव श्रमिकों को अन्य श्रमिकों से अलग रखने की व्यवस्था की जा रही है। क्वारेंटाइन सेंटर में रुके अन्य लोगों के स्वास्थ्य की जांच फिर से की जाएगी। साथ ही पाॅजिटिव श्रमिकों के संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान कर उनकी भी जांच की जाएगी। क्वारेंटाइन सेंटर में ड्यूटी में लगे कर्मचारी व सेवादाताओं के भी स्वास्थ्य की जांच की जाएगी।  
9 पॉजिटिव को भेजा रायपुर
कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे ने बताया कि सम्बलपुर को सील कर दिया गया है। पड़ाव चैक से महाराणा प्रताप वार्ड को सील करने की कार्रवाई की जा रही है। सभी चिन्हांकित 9 पाॅजिटिव श्रमिकों को क्वारेंटाइन सेंटर से रायपुुर भेज दिया है। केन्द्र के बाकी श्रमिकों का सैंपल चेकिंग के लिए रायपुर भेजा जाएगा। महाराणा प्रताप वार्ड से चातरखार की 3 किलोमीटर क्षेत्र को सील करने की कार्रवाई देर रात तक चलती रही। वहीं क्षेत्र को सैनिटाइज भी कराया जा रहा है।  
मरवाही ब्लॉक में मिले 3 पॉजिटिव, बिलासपुर रेफर
पेण्ड्रा|  मरवाही ब्लॉक के क्वारेंटाइन सेंटर में 3 कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। गौरेला पेंड्रा मरवाही सीएमएचओ डॉ. देवेन्द्र पैकरा ने बताया कि मरवाही में जो 3 कोरोना पॉजिटिव के मामले मिले हैं उनमें सर्दी-खांसी आदि के लक्षण नहीं दिख रहे थे। चूंकि ये रेड जोन से आए थे, इसलिए इन सभी का सैंपल जांच के लिए भेजा था। इनमें से 3 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। तीनों में से एक बांद्रा मुंबई, एक हैदराबाद और एक पुणे से लौटा था। सभी को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया था। सभी को बिलासपुर शिफ्ट किया गया।
छीतापुर के क्वारेंटाइन सेंटर में बिगड़ी श्रमिक की तबीयत, मौत
छीतापुर क्वारेंटाइन सेंटर में अंतिम दिन 10 मई को हैदराबाद से ग्राम छीतापुर आए एक दिव्यांग मजदूर की मौत हो गई। उसे बुखार और उल्टी-दस्त की परेशानी हो रही थी। शनिवार को मरीज की हालत बिगड़ने पर उसे जिला अस्पताल रेफर किया गया। एंबुलेंस भी बुलवाई गई, लेकिन समय पर एंबुलेंस नहीं पहुंचने पर उसकी मौत हो गई।
गौरतलब है कि मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी महादेव तेदवे ने बताया कि ग्राम छीतापुर के क्वारेंटाइन सेंटर में रुके 16 प्रवासी श्रमिकों की आरडी किट से जांच की गई है। इसमें सभी श्रमिकों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। पुनीत की भी रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं कोरोना टेस्ट के लिए आरटीपीसीआर सैंपल रायपुर मेकाहारा भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट आनी बाकी है। रिपोर्ट आने तक मृतक का शव सिम्स मेडिकल काॅलेज बिलासपुर के शीत शव गृह भेज दिया गया है। छीतापुर क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे 26 वर्षीय पुनीत टंडन को शुक्रवार शाम बुखार आया तो मितानिन ने उसे पैरासिटामॉल दे दिया। गूंगा होने से उसने रात में उल्टी होने का इशारा किया। इसकी सूचना पर एएनएम और सचिव उसे शुक्रवार रात 9 बजे पंडरभट्‌ठा पीएचसी ले गए। यहां इलाज के बाद स्थिति सामान्य होने पर उसे वापस छीतापुर पहुंचाया गया। इसके बाद शनिवार को उसने इशोर से 2 बार उल्टी और 2 बार दस्त होना बताया। उसे जिला अस्पताल लेकर जाने एंबुलेंस बुलवाई गई, लेकिन गाड़ी नहीं पहुंची। इसके बाद सचिव ने अपने स्तर पर गाड़ी की व्यवस्था कर उसे अस्पताल रवाना किया, लेकिन रास्ते में उसकी मौत हो गई। गौरतलब है कि 23 मई को 14 दिन पूरा होने पर उसे क्वारेंटाइन सेंटर से छुट्‌टी मिलनी थी, लेकिन सेंटर में अंतिम दिन ही उसकी मौत हो गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना