धान खरीदी केंद्र में किसानों ने जड़ा ताला:बोले-14 दिन हो गए एक दाना भी नहीं बेच पाए, कंप्यूटर रिकॉर्ड से नाम गायब; दिनभर हुआ हंगामा

मुंगेली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खरीदी केंद्र के सामने किसान जोर-जोर से नारेबाजी करते रहे। - Dainik Bhaskar
खरीदी केंद्र के सामने किसान जोर-जोर से नारेबाजी करते रहे।

छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में धान खरीदी केंद्र में किसानों ने मंगलवार को ताला जड़ दिया। उनका कहना है कि 14 दिन बीत गए हैं, हम एक दाना धान भी नहीं बेच सके। हमारा नाम भी कंप्यूटर रिकॉर्ड से गायब है। हम क्या करें। इसलिए अब हमने केंद्र में ही ताला लगा दिया है। किसानों के विरोध के चलते मंगलवार को लोरमी के साल्हेघोरी धान खरीदी केंद्र में धान खरीदी नहीं हो सकी। दिनभर हंगामा चलता रहा।

दरअसल, किसानों की मांग पर इस बार गोंड़खाम्ही धान खरीदी केंद्र से अलग कर साल्हेघोरी गांव में धान खरीदी केंद्र खोला गया है। वजह है कि यहां के आस-पास के 7 गांव के किसान अपना धान बेच सकें। पिछले साल तक किसानों को धान बेचने लंबी दूरी तय कर गोंड़खाम्ही गांव धान खरीदी केंद्र जाना पड़ता था।

अब नई व्यवस्था शुरू होने के बावजूद किसानों की परेशानी कम नहीं हो रही है। इसी कारण किसान मंगलवार को सुबह ही साल्हेघोरी धान खरीदी केंद्र पहुंच गए और जमकर नारेबाजी करने लगे। इसके बाद उन्होंने खरीदी केंद्र में ताला जड़ दिया।

खरीदी केंद्र में दिनभर ताला लटका रहा।
खरीदी केंद्र में दिनभर ताला लटका रहा।

किसानों का कहना है कि 01 दिसंबर से खरीदी शुरू हुई है। तब से हम भटक रहे हैं। यहां न तो हमारा टोकन कट रहा है, न खरीदी की जा रही है। हम करें तो करें क्या। उन्होंने बताया कि कंप्यूटर में मैपिंग नहीं होने के कारण हमारा नाम ही नहीं दिखता है। किसानों का कहना है कि जब तक हमारी मांग पूरी नहीं होती हम प्रदर्शन करते रहेंगे।

ताला जड़ने के बाद किसान केंद्र के सामने ही बैठकर प्रदर्शन करने लगे।
ताला जड़ने के बाद किसान केंद्र के सामने ही बैठकर प्रदर्शन करने लगे।

इधर, खरीदी केंद्र में ताला लगने के कारण आस-पास के 6 गांव के लोग भी धान नहीं बेच सके। कई किसान बिना धान बेचे ही वापस लौट गए। वहीं दोपहर बाद जब प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे तब किसानों का गुस्सा किसी तरह शांत हुआ और वे वापस घर लौट गए हैं। अधिकारियों ने व्यवस्था सही करने का आश्वासन किसानों को दिया है।

खबरें और भी हैं...