सड़क का हाल-बेहाल:10 किलोमीटर की सड़क अधूरी और 70 फीसदी काम का दावा, धूल के बीच वाहन तक नजर नहीं आते

बिलासपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सड़क के गड्‌ढों पर चल रहा है पेच रिपेयर। - Dainik Bhaskar
सड़क के गड्‌ढों पर चल रहा है पेच रिपेयर।
  • 94 करोड़ रुपए की मंगला- भैंसाझार प्रोजेक्ट सड़क का हाल-बेहाल

मंगला-भैंसाझार की सड़क को मई 2021 में पूरा होना था लेकिन अब यह मार्च 2022 में पूरी होगी। वर्तमान में 10 किलोमीटर तक सड़क बनाए जाने का काम बाकी है लेकिन अफसर डेडलाइन गुजरने के बाद भी 70 फीसदी काम पूरा होने का दावा कर रहे हैं।

मंगला से तुर्काडीह हाइवे तक सड़क की इतनी दुर्दशा है कि हाइवा चलने के दौरान धूल इतनी अधिक उड़ती है कि दूसरे वाहन नजर नहींं आते। तुर्काडीह हाइवे शुरू होने के बाद सड़कों की हालत और भी खराब हो गई है। धूल के गुबार में कुछ नजर नहीं आता। मंगला से भैंसाझार सड़क प्रोजेक्ट 25 किलोमीटर का है जिससे प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद 16 गांवों की कनेक्टिविटी शहर से सीधे तौर पर हो जाएगी। आबादी की बात करेंं तो यह 50 हजार से अधिक होगी। इस लिहाज से यह सड़क महत्वपूर्ण है। एक साल देर से चल रहे काम को लेकर अफसर पूरी जिम्मेदारी कोरोना संक्रमण पर डाल रहे हैं जबकि इस अवधि के दौरान दूसरे प्रोजेक्ट भी चलने के बाद समय पर पूरे हुए हैं।

सीधी बात; अजय कुमार दीवान, ईई, एडीबी
देरी तो हुई है लेकिन प्रमुख वजह कोरोना

मंगला भैंसाझार एडीबी प्रोजेक्ट लंबे समय से अधूरा है?
- 15 किलोमीटर डामरीकरण का काम हो चुका है। बाकी चल रहा है।

प्रोजेक्ट के पूरा होने की डेडलाइन क्या थी?
- मई 2021 में काम पूरा हो जाना था।

काम में देरी किस वजह से हुई?
-काम में देरी की प्रमुख वजह कोरोना संक्रमण के दौरान काम बंद होना रहा।

खबरें और भी हैं...