राहत की खबर / बिलासपुर कोविड अस्पताल में भर्ती 3 मरीज ठीक, डिस्चार्ज कर घर भेजे

ठीक होकर एंबुलेंस में घर जाते जांजगीर के लोग। ठीक होकर एंबुलेंस में घर जाते जांजगीर के लोग।
X
ठीक होकर एंबुलेंस में घर जाते जांजगीर के लोग।ठीक होकर एंबुलेंस में घर जाते जांजगीर के लोग।

  • दो टेस्ट के बाद रिपोर्ट निगेटिव आई
  • अस्पताल के स्टाॅफ ने तालियां बजाकर अभिनंदन किया

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

बिलासपुर. जांजगीर से कोविड-19 अस्पताल में करीब 9 दिन पहले भर्ती किए गए कोरोना पॉजिटिव 5 मरीजों में से तीन मरीज स्वस्थ हो गए। शुक्रवार की दोपहर इन तीनों मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। डिस्चार्ज करने के बाद जब यह मरीज 108 एंबुलेंस में बैठ रहे थे तो कोविड-19 अस्पताल के स्टाफ ने सभी का तालियां बजाकर अभिनंदन किया और स्वस्थ रहने की कामना की। दो टेस्ट कराने के बाद इन मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आई। डिस्चार्ज करने से पहले पूरी कागज की कार्रवाई पूरी की गई। इन मरीजों का एक बार फिर से कोरोना का टेस्ट लिया गया, इसमें भी सभी निगेटिव पाए गए। 15 मई को जांजगीर जिले में जांच के दौरान 5 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। उसी दिन सभी को कोविड-19 अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों की टीम इलाज के लिए पहले ही तैनात कर दी गई थी । इस बारे में सिविल सर्जन डॉ. मधुलिका सिंह का कहना है जांजगीर से लाए गए पांच कोरोना वायरस मरीजों में से 3 तीन मरीज ठीक हो गए। उनके दो और टेस्ट किए गए जिसमें निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद उन्हें आज डिस्चार्ज कर दिया गया। इसके बाद तीनों को एंबुलेंस से जांजगीर भेजा गया।
2293 की रिपोर्ट निगेटिव
स्वास्थ्य विभाग ने 5888 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजा गया। 2293 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव मिली है। शुक्रवार को 403 लोगों का सैंपल लिया गया। जांच के लिए रायपुर भेजा गया है। 7930 लोगों को अभी तक ट्रेस किया जा चुका है। 1944 लोगों ने क्वॉरेंटाइन का समय भी पूरा कर लिया है। 7773 होम आइसोलेट में हैं। शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जिला कार्यालय में 3, रेलवे स्टेशन पर 150, बहतराई स्टेडियम में 141, बिल्हा में 34, मस्तूरी में 24, कोटा में 25, तखतपुर में 26 लोगों के सैंपल जांच के लिए गया है। 
एंबुलेंस में पुराने दिनों की चर्चा
जांजगीर के जो तीन मरीज कोरोना को मात देकर कोविड अस्पताल से डिस्चार्ज हुए। वह रास्ते में बीते दिनों की बातें करते रहे। इसमें महिला का कहना था कि अस्पताल में जहां तुम लोग साथ में थे तौ मैं अकेली थी। इस महामारी से ठीक हो गए और हमारी जिंदगी बच गई यही हमारे लिए बहुत है। तीनों स्वस्थ व्यक्तियों को कृषि महाविद्यालय के ब्वायज हॉस्टल में 14 दिन के लिए रखा गया है। यहां भी अधिकारी उनको सांत्वना देते रहे कि अब तुम लोग पूरी तरह से ठीक हो चुके हो बस कुछ दिन है यहां रहना है। 
108 के कर्मचारी करते रहे घंटों इंतजार 
108 एंबुलेंस स्वास्थ्य कोरोना मरीजों को जांजगीर भेजा गया। वह पामगढ़ से मरीज लेकर आई थी, उन्हें यहीं पर निर्देश मिला अस्पताल से जो मरीज डिस्चार्ज किए जा रहे हैं उन्हें जांजगीर छोड़ना है। एंबुलेंस कर्मचारी शैलेंद्र खरे और सुनील धीवर करीब 3:30 घंटे तक अस्पताल परिसर में उनका इंतजार करते रहे। जब इनसे बात की तो उन्होंने कहा हमारे लिए अच्छी बात है कि हमें इस जिम्मेदारी के लिए चुना गया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना