कोविड 19:52 दिन बाद आंकड़ा 50 पार जिले में मिले 69 नए संक्रमित

बिलासपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 21 जनवरी को 76 रोगी मिले थे, अब रविवार को आया ऐसा दिन

बिलासपुर जिले में भी कोरोना के मामले बढ़ने लगे हैं। 52 दिन बाद जिले में 50 से अधिक मरीज एक साथ मिले हैं। रविवार को 69 नए संक्रमितों की पहचान होते ही जिले में हलचल का माहौल पैदा हो गया। शहर के 39 मोहल्लों में कोरोना मरीज मिले हैं।

इन मरीजों के संपर्क में रहने वाले 100 से अधिक लोगों की कोरोना जांच होगी। इससे पहले 21 जनवरी को एक साथ 76 लोग कोविड की चपेट में आए थे। इसके बाद फिर ऐसा मौका नहीं आया। केस घटने लगे थे।

दिनभर में छह मरीजों तक मामला पहुंच गया था लेकिन अब हालात को देखने के ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि संक्रमण और बढ़ सकता है। नए मरीजों के मिलते ही कुल रोगियों की संख्या 21692 तक पहुंच गई। मार्च के 14 दिन में 374 लोग कोविड पॉजिटिव हुए हैं। इधर रविवार को छह लोग कोरोना से जीतकर डिस्चार्ज हुए तो ठीक होने वालों के आंकड़े 21154 हो गए। एक्टिव केस बढ़कर 200 के पार पहुंच गए हैं।

इन इलाकों में मिले मरीज

गणेश नगर, वसंत विहार, विनोबा नगर, राजेंद्र नगर, सरकंड़ा, तोरवा, मंगला, अभिषेक विहार फेस 2, खमतराई, हेमू नगर, गोपाल नगर, कश्यप कॉलोनी, सिरगिट्‌टी, देवरीखुर्द, कोटा, जूना बिलासपुर, गुरुनानक चौक, तालापारा, जोरापारा, मोपका, आरके नगर, सांई बाबा हॉस्पिटल, उसलापुर, धौराभाठा, पुलिस लाईन, रेलवे कॉलोनी, ओंकार होम राजकिशोर नगर, भगत भवन मंगला, दयालबंद नारियल कोठी, हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी देवरीखुर्द, रॉयल टाउन मोपका, पोड़ी रतनपुर, शिवम हाईटस, विद्या नगर, रामा वैली, अग्रसेन चौक और इमाम बाड़ा बोहरा मस्जिद से मिले हंै।

घबराने की नहीं सतर्क रहने की जरूरत

रविवार को एक साथ 69 मरीजों के मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग भी परेशान होने लगा। सीएमएचओ डॉक्टर प्रमोद महाजन का कहना है कि कोरोना के केस बढ़ने लगे हैं, घबराने की नहीं सतर्क रहने की जरूरत है। घर से बाहर निकलने से पहले मास्क जरूर पहनें।

भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। कोरोना के लिए बनाए गए प्रोटोकॉल का पालन जरूर करें, आपकी सुरक्षा, दूसरों को भी सुरक्षित रखेगी। सीएमएचओ ने कहा हमारे पास व्यवस्था पूरी है। इसलिए घबराएं नहीं, बस नियमों का पालन करें ताकि हम सब कोरोना से सुरक्षित रहें।

जिले में दिनभर में मृत्यु के आंकड़े शून्य

राहत की बात है कि जिले में मृत्यु दर घटी है। सितंबर, अक्टूबर महीने में हर दिन तीन-चार मौतें हो रही थीं। जिस पर काफी काबू किया गया है। रविवार को जिले में कोरोना से मृत्यु के आंकड़े शून्य रहे। अब तक 319 मरीजों को हमने खोया है। मार्च में चार मरीजों ने दम तोड़ा है।

खबरें और भी हैं...