डीआरयूसीसी की बैठक:सदस्यों ने किए 75 सवाल; अफसरों ने कहा- निर्णय बोर्ड लेगा सदस्य बोले- सुझाव क्यों ले रहे?

बिलासपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डीआरयूसीसी की बैठक के दौरान उपस्थित सदस्य। - Dainik Bhaskar
डीआरयूसीसी की बैठक के दौरान उपस्थित सदस्य।

मंडल रेल उपभोक्ता सलाहकार समिति की बैठक में शुक्रवार को सदस्यों के सवालों का स्पष्ट जवाब नहीं मिलने से वे बिफर पड़े। कहा- जब इस बैठक में कोई निर्णय लेने का अधिकार आपके पास नहीं है तो हमें बुलाकर सुझाव लेने का क्या मतलब है। हमारे कितने सुझाव रेलवे बोर्ड को भेजे गए यह जानकारी दें। इस पर अफसर चुप हो गए।

तीन घंटे चली बैठक में सदस्यों के 75 से अधिक सवाल थे इनमें 30 से अधिक यानी लगभग 40 प्रतिशत सवाल रद्द ट्रेनों को चलाने, जो ट्रेनें चल रहीं हैं उनका स्टापेज पूर्व की तरह यथावत रखने और स्पेशल के नाम पर लिया जा रहा बढ़ा हुआ किराया बंद करने का सुझाव शामिल है। मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के सभा कक्ष में हुई बैठक में डीआरएम आलोक सहाय सहित उपस्थित अफसरों ने सदस्यों के 75 से अधिक सवालों के जवाब दिए।

इस जबाव से कुछ सदस्य संतुष्ट नहीं थे। इनमें से कोरबा के हरीश परसाई ने कहा कि ट्रेनों का परिचालन, उनके ठहराव आदि पर अगर कोई निर्णय लेने का अधिकार आपके पास नहीं है तो हमारे दिए गए सुझाव पर आपने टिप्पणी क्यों लिखी। अब तक हमारे किन-किन सुझाव पर रेलवे बोर्ड को पत्र भेजा गया यह पूछने पर किसी ने कोई जवाब नहीं दिया।

मनेंद्रगढ़ के सदस्य श्याम सुंदर पोद्दार काफी नाराज थे वे चिरमिरी-बिलासपुर पैसेंजर को दुर्ग तक चलाने की मांग पिछले कई बैठकों से कर रहे हैं। अंत में डीआरएम आलोक ने कहा कि जितने भी महत्वपूर्ण सुझाव हैं उन्हें जोनल मुख्यालय के जरिए बोर्ड तक भेजा जाएगा और सदस्यों को इसकी जानकारी भी दी जाएगी। कोशिश कर रहे हैं यात्रियों की समस्याओं का निराकरण जल्द से जल्द हो सके।

खबरें और भी हैं...