लॉन्ड्री मशीन जर्जर:सिम्स में कपड़ा धोने, सुखाने और निचोड़ने वाली तीनों मशीन खराब, हाथ से धो रहे

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देखिए... जर्जर वाशिंग मशीनों ने किस तरह से कपड़ों को फाड़ा है। - Dainik Bhaskar
देखिए... जर्जर वाशिंग मशीनों ने किस तरह से कपड़ों को फाड़ा है।
  • कर्मचारी बाेले- रोज 100 कपड़े फट रहे, अभी तक नहीं आई मशीन

मेडिकल कॉलेज सिम्स में कपड़े धुलने वाली लॉन्ड्री मशीन जर्जर हो चुकी है। अब इस मशीन से कपड़े धुलते कम फटते ज्यादा हैं। रोज 100 के करीब कपड़े फट रहे हैं। ऐसा कपड़ा धोने वाले कर्मचारी खुद बता रहे हैं। वासिंग, ड्रायर और हाइड्रो तीनों मशीनों की स्थिति खराब होने के बाद कर्मचारी परेशान हैं।

तीनों मशीनें इन दिनों बंद हैं। नई मशीन अभी तक नहीं आ पाई। मशीन तो कई साल पहले ही रिजेक्ट हो चुकी थी। लेकिन कपड़ों की धुलाई होना जरूरी है इसलिए इसे किसी तरह इसकी रिपेयरिंग कर चलाया जा रहा था लेकिन अब वो भी बंद हो गया। चिंताजनक बात यह है कि मरीजों और ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों के अलावा वार्ड में बिछने वाले चादर और अन्य कपड़ों की धुलाई अब कर्मचारी हाथों से ही कर रहें है। सिम्स प्रबंधन का कहना है कि नई मशीन के लिए टेंडर किया गया है। उम्मीद है कि जल्द मशीन आ जाएगी और व्यवस्था में सुधार हो जाएगा।

तीन महीने से हालात ऐसे है
सिम्स के लॉन्ड्री में काम करने वाले कर्मचारी बताते हैं कि तीन महीने से मशीन में समस्या आ रही है। किसी तरह इसे चला रहें थे पिछले तीन माह से प्रतिदिन 100 कपड़े मशीन में धुलाई के दौरान फट जाते थे ऐसे में नुकसान को देखते हुए मशीन का उपयोग बंद कर हाथों से कपड़ा धो रहे हैं। इसके अलावा कपड़े को सुखाने के लिए भी जगह नहीं है। जिसके चलते छत और खाली जगह में रस्सी बांध कर कपड़ा सुखा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...