'बार' पार्टी बिगाड़ सकती है कई का 'भूगोल':CPS दंपती सहित 3 अफसरों के बयान दर्ज, DGP को भेजी गई रिपोर्ट; CCTV फुटेज किए गए जब्त

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मामले की जांच एडिशनल SP उमेश कश्यप को सौंपी गई है। उन्होंने मंगलवार को अफसरों के बयान लिए। - Dainik Bhaskar
मामले की जांच एडिशनल SP उमेश कश्यप को सौंपी गई है। उन्होंने मंगलवार को अफसरों के बयान लिए।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में रामा मैग्नेटो मॉल स्थित भूगोल बार में 3 दिन पहले हुए हंगामे और हाथापाई की आंच अफसरों तक पहुंच सकती है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद छत्तीसगढ़ पुलिस सेवा (CPS) में कार्यरत दंपती सहित 3 अफसरों के बयान मंगलवार को दर्ज किए गए हैं। वहीं बार संचालक और मैनेजर के बयान लेने के साथ ही वहां लगे CCTV फुटेज को भी जब्त किया गया है। इसकी रिपोर्ट देर रात ही बिलासपुर SP ने DGP को भेज दी है।

दरअसल, भूगोल बार में हुए हंगामे के बाद DGP के आदेश पर मामले की जांच एडिशनल SP उमेश कश्यप को सौंपी गई है। उन्होंने मंगलवार को उप जेल अधीक्षक सोनाल डेविड, उनकी पत्नी DSP सृष्टि चंद्राकर के साथ ही DSP स्नेहिल साहू का बयान दर्ज किया है। मामले में गौरेला SDOP रश्मित कौर चावला का बयान नहीं हो सका है। इससे पहले ही उन्हें रिलीव कर दिया गया। इनके अलावा बार मालिक आशीष जायसवाल, मैनेजर अंकित दुबे और बाउंसर राहुल अग्रहरि का भी बयान दर्ज लिया गया है।

बार संचालक और मैनेजर के बयान लेने के साथ ही वहां लगे CCTV फुटेज को भी जब्त किया गया है।
बार संचालक और मैनेजर के बयान लेने के साथ ही वहां लगे CCTV फुटेज को भी जब्त किया गया है।

इन बिंदुओं पर टिकी जांच

  • भूगोल बार में पार्टी का आयोजन किस अफसर ने किया था?
  • पार्टी में किन-किन अफसरों को आमंत्रित किया गया था?
  • इस पार्टी में कौन-कौन लोग शामिल हुए?
  • घटना के समय बार के अंदर और बाहर कौन-कौन अधिकारी उपस्थित थे?
  • थाने में क्या-क्या हुआ?

तबादला सूची जारी होने के बाद भी जमे थे अफसर
राज्य शासन से तबादला सूची जारी होने के बाद भी अफसर वहीं जमे थे। कोटा की DSP रश्मित कौर चावला को 4 अगस्त को गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) जिला और सृष्टि चंद्राकर को 23 जून को ही कोंडागांव के बालक अपराध अन्वेषण शाखा भेज दिया गया था। इसके बाद भी दोनों अफसर बिलासपुर में ही जमे थे। बताया जा रहा है कि इन अफसरों को SP ने रिलीव नहीं किया था। फिलहाल घटना के बाद दैनिक भास्कर में खबर छपने पर अफसरों को रिलीव कर दिया गया है।

बार में हुए विवाद के बाद देर रात करीब 3 बजे तक सिविल लाइन थाने में गहमागहमी रही, कुछ अफसर भी देर रात तक वहां रहे।
बार में हुए विवाद के बाद देर रात करीब 3 बजे तक सिविल लाइन थाने में गहमागहमी रही, कुछ अफसर भी देर रात तक वहां रहे।

अफसरों की पार्टी में हुआ था बवाल
भूगोल बार में रविवार रात अफसरों की पार्टी में बवाल हो गया था। पार्टी में शामिल कुछ लोगों से मिलने के लिए वहां जब पुलिस अफसर दंपती पहुंचे तो बाउंसरों ने उन्हें रोक लिया। इस पर अफसर ने अपना परिचय दिया। यहां तक कि उन्होंने ID कार्ड भी दिखाया, लेकिन बाउंसरों ने नहीं जाने दिया। विवाद इतना बढ़ा कि बाउंसर अफसर से दुर्व्यवहार करने लगे। इसके बाद देर रात करीब 3 बजे तक सिविल लाइन थाने में गहमागहमी रही, कुछ अफसर भी देर रात तक वहां रहे। सीएम ने डीजीपी से इस मामले की रिपोर्ट मांगी है।

हमने रिपोर्ट भेज दी है: दीपक झा
SP दीपक झा ने कहा कि पूरी घटनाक्रम की जांच एडिशनल एसपी उमेश कश्यप से कराई गई है। जांच रिपोर्ट मिलते ही डीजीपी को भेज दिया गया है।

खबरें और भी हैं...