तीसरी घरेलू उड़ान का इंतजार समाप्त:बिलासपुर-भोपाल घरेलू उड़ान 5 से, सप्ताह में चार दिन चलेगी, सुबह 11.30 बजे होगी रवाना

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिलासा देवी चकरभाठा एयरपोर्ट से बिलासपुर-भोपाल उड़ान पांच जून से शुरू हो रही है। 5 जून को चकरभाठा एयरपोर्ट से भोपाल के लिए यह उड़ान सुबह 11.30 बजे टेक ऑफ करेगी। बिलासपुर भोपाल उड़ान की घोषणा अगस्त 2020 में केंद्रीय उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने की थी लेकिन घोषणा के बाद अब जाकर यह 5 जून से शुरू हो रही है। जबलपुर से सुबह 11.05 बजे आने वाली फ्लाइट सुबह 11.30 बजे भोपाल जाएगी।

केंद्र नागर विमानन मंत्रालय की मंजूरी के बाद बिलासपुर भोपाल की उड़ान का शैड्यूल भी जारी कर दिया गया है। 3 जून को भोपाल से यह उड़ान बिलासपुर पहुंचेगी लेकिन विधिवत यह 5 जून को सुबह 11.30 बजे भोपाल के लिए उड़ान शुरू होगी।

इसी तरह भोपाल से बिलासपुर के लिए यह उड़ान 3.45 बजे वापस आएगी और शाम 16.15 बजे यह उड़ान जबलपुर के लिए रवाना होगी। इस तरह सप्ताह में सोमवार, मंगलवार, बुधवार और गुरूवार चार दिन बिलासपुर भोपाल के लिए उड़ान संचालित होगी। वर्तमान में दिल्ली जबलपुर बिलासपुर और दिल्ली प्रयागराज बिलासपुर के लिए घरेलू उड़ान संचालित हो रही है। बिलासपुर भोपाल उड़ान संचालित होने से शहर के यात्रियों को और सुविधा मिल पाएगी। चकरभाठा एयरपोर्ट में अभी भी विकास के ढेरो काम लंबित है जिसका इंतजार किया जा रहा है।

अब इन कामों के शुरू होने का इंतजार

  • एयरपोर्ट को 4 सी लाइसेंस दिया जाना।
  • सेना से एयरपोर्ट के विकास के लिए 270 एकड़ जमीन लिया जाना।
  • प्रस्तावित टर्मिनल बिल्डिंग का का काम शुरू होना।
  • एयरपोर्ट से टैक्सी सेवा शुरू होना।
  • शहर से महानगरों के लिए सीधी उड़ान सेवा शुरू किया जाना।

इसलिए है 270 एकड़ जमीन की जरूरत
वर्तमान में 3 सी रहते हुए नाइट लैंडिंग सुविधा तैयार करने और 4 सी एयरपोर्ट में रनवे का विस्तार 1490 मीटर से 2885 मीटर तक करने की योजना बनाई है। दोनों ही कार्यों के लिए सेना के हिस्से की जमीन की आवश्यकता होगी। इस रिपोर्ट के आने के बाद अब सबसे बड़ी चुनौती बिलासपुर एयरपोर्ट के विकास के लिए सेना के हिस्से की जमीन हासिल करना है।

वर्तमान में सेना के पास 1166 एकड़ जमीन है, इसमें से 270 एकड़ जमीन सेना और 25 एकड़ जमीन निजी भूमि लेने की जरूरत बताई गई है। सेना ने कुछ समय पहले चकरभाठा क्षेत्र की जमीन को वापस करने के लिए राजस्व विभाग को पत्र भी लिखा है।

खबरें और भी हैं...