सिम्स के टेक्नीशियन से मारपीट का मामला:सतनामी समाज ने SP को सौंपा ज्ञापन, कहा पंकज सिंह के खिलाफ एट्रोसिटी एक्ट के तहत दर्ज हो मामला, 3 दिन में मांगे ना मानने पर आंदोलन

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
SP को ज्ञापन सौंपने आए सतनामी समाज के लोग। - Dainik Bhaskar
SP को ज्ञापन सौंपने आए सतनामी समाज के लोग।

बिलासपुर जिले के कांग्रेस नेता पंकज सिंह का सिम्स(CIMS) के टेक्नीशियन से मारपीट का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। गुरुवार के दिन पूरी घटना को लेकर सतनामी समाज ने जिला SP दीपक झा को ज्ञापन सौंपते हुए पंकज सिंह के खिलाफ अनुसूचित जाति/जनजाति एक्ट के तहत जुर्म दर्ज कर जल्द गिरफ्तार करने मांग की है।

CCTV फुटेज में पंकज अस्पताल कर्मचारी का कॉलर पकड़ते हुए दिखाई दे रहे है।
CCTV फुटेज में पंकज अस्पताल कर्मचारी का कॉलर पकड़ते हुए दिखाई दे रहे है।

समाज के लोगों ने अपनी शिकायत में कहा कि सिम्स में कार्यरत एमआरआई टेक्नीशियन तुलाचंद तांडे अनुसूचित जाति का है, जो मस्तूरी क्षेत्र के गतौरा का रहने वाला है। उसके साथ जरहाभाठा निवासी पंकज सिंह ने जाति सूचक गाली देकर मारपीट किया है। घटना सिम्स के सीसीटीवी कैमरा में भी रिकॉर्ड हुआ है। समाज ने पंकज सिंह के विरुद्ध अट्रोसिटी एक्ट के तहत जुर्म दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है। 3 दिन के भीतर कार्रवाई न होने पर सतनामी समाज ने आंदोलन की चेतावनी दी है।

पंकज ने अस्पताल के कर्मचारी के साथ की थी हाथापाई

दरअसल, 5 दिन पहले छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी.एस.सिंहदेव के करीबी माने जाने वाले पंकज सिंह पर बिलासपुर के सरकारी अस्पताल सिम्स में काम करने वाले टेक्नीशियन के साथ मारपीट का आरोप लगा था। इस घटना के बाद सिम्स के टेक्नीशियन ने पंकज सिंह के खिलाफ कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

विधायक ने कहा था राजनीतिक बदले की कार्रवाई

विधायक शैलेष पांडे ने पुलिस की एफआईआर को बदले की कार्रवाई बताई थी। उन्होंने कहा था कि को के दौरान भी जब गरीब लोगों को अनाज बांटा था तब उनके खिलाफ भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी। वहीं कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने विधायक के इस बयान को अनुशासनहीनता करार दिया था।

मरीजों को MRI स्कैन मशीन खराब बोलकर लौटा रहे थे

पंकज सिंह ने अपने ऊपर लगे आरोपों को लेकर कहा कि टेक्नीशियन मरीजों का इलाज ठीक से नहीं कर रहा था। वह उन्हें MRI स्कैन मशीन खराब हो गई है इसलिए जांच नहीं हो सकती बोलकर लौटा रहा था। यह बात जब उन्हें पता चली तो उन्होंने खुद अस्पताल जाकर इसकी जांच की। जिसमें टेक्नीशियन का झूठ पकड़ा गया। फिर वह उसे खुद डीन के पास लेकर गए थे।

खबरें और भी हैं...