बिलासपुर में नाइट कर्फ्यू:कलेक्टर ने हेल्थ डिपार्टमेंट के साथ की इमरजेंसी मीटिंग; स्कूल-काॅलेज और आंगनबाड़ी केंद्र बंद करने भी कहा

बिलासपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने स्वास्थ्य विभाग व निजी अस्पताल संचालकों की बैठक ली। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने स्वास्थ्य विभाग व निजी अस्पताल संचालकों की बैठक ली।

बिलासपुर में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंगलवार को कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने स्वास्थ्य विभाग के अफसरों व निजी अस्पताल के डॉक्टरों के साथ ही IMA की बैठक ली। इसमें उन्होंने कोरोना संक्रमण को देखते हुए अस्पताल में उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी ली और सुझाव भी मांगा। बैठक में IMA ने संक्रमण से निपटने के लिए स्कूलों व आंगनबाड़ी केंद्रों को बंद करने के साथ ही नाइट कर्फ्यू के लगाने की बात कही। इस बैठक के बाद रात में कलेक्टर ने नाइट कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी कर दिया। आदेश के मुताबिक रात 10 बजे से सुबह 6 बजे नाइट कर्फ्यू रहेगा। इसके साथ ही सभी स्कूल कॉलेज बंद रखने का आदेश जारी किया गया है। लेकिन 15 से 18 वर्ष के विद्यार्थियों के टीकाकरण के लिये शिक्षण संस्थान सोशल डिस्टेंस के साथ खोले जा सकेंगे।

बिलासपुर में कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से फैल रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि आने वाले समय में स्थिति और बिगड़ सकती है। इसके चलते जिला प्रशासन एक बार फिर से सख्त निर्णय लेने पर विचार कर रही है। मंगलवार को कलेक्टर ने स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी लेने व डॉक्टरों से सुझाव लेने के लिए बैठक बुलाई। इस दौरान उन्होंने जिले में संचालित शासकीय और निजी कोविड अस्पतालों में बिस्तरों की उपलब्धता और ऑक्सीजन की व्यवस्था के साथ ही दवाइयों को को लेकर चर्चा की।

बैठक में उन्होंने जिले में चल रहे वैक्सीनेशन पर जोर देने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया। मीटिंग के दौरान उन्होंने सभी निजी अस्पताल संचालकों को ये हिदायत भी दी कि कोविड मरीजों का इलाज शासन द्वारा तय राशि पर ही किया जाना है। गड़बड़ी पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई भी जा सकती है। बैठक में IMA की ओर से आने वाले दिनों में कोरोना का संक्रमण और तेजी से बढ़ने की आशंका जताई गई। लिहाजा, पदाधिकारियों ने एहतियात बरतते हुए स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्रों को बंद करने के साथ ही नाइट कर्फ्यू लगाने के सुझाव दिए। बैठक में CMHO डॉ. प्रमोद महाजन, IMA के पदाधिकारी और निजी अस्पताल के संचालकों के अलावा CIMS व जिला अस्पताल के चिकित्सक भी मौजूद रहे।

कलेक्टर की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि कोविड-19 का पालन करते हुए थोक व्यापार, सब्जी मंडी, लोडिंग-अनलोडिंग और परिवहन की अनुमति रहेगी। पेट्रोल पंप, दवाई दुकान, दवाई की डिलीवरी, एंबुलेंस को भी प्रतिबंध से छूट रहेगी और वे पूर्व नियमित समय के अनुसार संचालित रहेंगे। इसी तरह होटल, रेस्टोरेंट, ढाबा, बेकरी आइटम, फूड कोर्ट और अन्य खाद्य सामग्री संबंधी प्रतिष्ठान रात्रि 11 बजे तक संचालित होंगे। फूड की होम डिलीवरी रात्रि 11 बजे तक की जा सकेगी।

खबरें और भी हैं...