कोरोना को लेकर BJP की राजनीति:भाजपा बोली- 6 माह से सो रहे थे शहर विधायक, पहली और दूसरी लहर से भी नहीं ली सीख

बिलासपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डमी फोटो - Dainik Bhaskar
डमी फोटो

बिलासपुर में कोरोना को लेकर भाजपा की राजनीति शुरू हो गई है। संगठन पदाधिकारियों ने शहर विधायक के साथ ही प्रशासन की व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा है कि पहली व दूसरी लहर से उन्हें सबक लेकर व्यवस्था बनानी चाहिए। अब तीसरी लहर आ गई है तो विधायक जिला अस्पताल में घुड़की लगाकर दिखावा कर रहे हैं।

भाजपा के नगर मंडलों में मंडल अध्यक्ष अजीत सिंह भोगल,अरविंद बोलर, जुगल अग्रवाल चंदू मिश्रा, निर्मल जीवनानी, संदीप दास ने संयुक्त बयान जारी कर तीसरी लहर की आशंका के बीच सरकारी अस्पताल में जाकर विधायक की फोटोगीरी छाप घुड़की को महज दिखावेबाजी बताया है।

विधायक शैलेष पांडेय के जिला अस्पताल में निरीक्षण पर सवाल उठाते हुए भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने कहा की जब प्यास लगी है तब कुंआ खोदने निकले हैं। विधायक छह माह से सोए थे क्या। भाजपा नेताओं ने विधायक पांडेय पर व्यंग्य कसते हुए कहा कि विधायक के निरीक्षण की नौटंकी सिर्फ खुद को हाई लाइट और मीडिया में छपने के लिए है। जनता को कोई लाभ मिले इससे उन्हें कोई लेना देना नहीं है, समस्या जस की तस बनी रहती है।

भाजपा नेताओं ने कहा कोरोना की तीसरा लहर हमारे चौखट पर हैं और हम अब व्यवस्था बनाने में लगे हैं। प्रशासन और जनप्रतिनिधियों ने पहली और दूसरी लहर से कोई सीख नहीं ली। जिला अस्पताल के जिन डॉक्टरों को कल विधायक फटकार लगाकर नींद सोने की बात कर रहें थे। विधायक आज अचानक कैसे जागे गए। बतौर विधायक उन्होंने क्या इंतजाम करवाए है।

वे जब से विधायक बने हैं सिर्फ निरीक्षण ही कर रहें हैं। कोई समस्या का समाधान नहीं हो पाता है। तीन साल से कार्रवाई की बात भर करते हैं। कभी किसी पर कार्रवाई हुई नहीं। भाजपा मंडल पदाधिकारियो ने विधायक को सलाह देते हुए कहा नौटंकीबाजी छोड़ शहर की समस्याओं को दूर करने जमीनी स्तर पर ईमानदारी से प्रयास करें। कोरोना अत्यंत तेजी से शहर में फैल रहा है और जिला अस्पताल में दो माह से आक्सीजन प्लांट की मशीन आकर रखी है। जिसे चालू नहीं किया गया है। कोरोना की तीसरी लहर से निपटने शासन प्रशासन को हर पहलू गंभीरता से ध्यान देने की आवश्यकता है।

खबरें और भी हैं...