पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आ रहा मानसून:पिछले साल 12 जून को आया था, 1300 मिमी हुई थी बारिश

बिलासपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रविवार की शाम आसमान पर लालिमा छायी रही। सूरज डूब रहा था आसपास बादल भी थे। - Dainik Bhaskar
रविवार की शाम आसमान पर लालिमा छायी रही। सूरज डूब रहा था आसपास बादल भी थे।
  • दक्षिण-पश्चिम मानसून आगे बढ़ रहा है, केरल के बाद महाराष्ट्र में दस्तक दे चुका

मानसून का इंतजार शुरू हो चुका है। किसानों को सबसे ज्यादा इंतजार है। मौसम विभाग के मुताबिक 15 जून तक मानसून आने की संभावना है। पिछले साल 12 जून को मानसून आया था और 1300 मिमी बारिश हुई थी। मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण-पश्चिम मानसून आगे बढ़ रहा है। केरल के बाद महाराष्ट्र में मानसून दस्तक दे चुका है।

यहां के तटीय इलाकों में जमकर बारिश होने लगी है। मौसम विभाग के अनुसार 15 जून तक दक्षिण पश्चिम मानसून छत्तीसगढ़ के साथ ही बिहार, झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में दस्तक दे सकता है। पिछले साल मानसून 12 जून को आया था और 21 अक्टूबर को वापसी हुई थी। इस बीच 1300 मिमी से ज्यादा बारिश हुई थी। 45 लाख क्विंटल से ज्यादा धान किसानों ने उपार्जन केंद्रों में बेचा था यानी उत्पादन भी अच्छा हुआ था। इस बार 15 जून को मानसून आने का अनुमान मौसम विभाग ने जताया है।

24 घंटे में दो डिग्री बढ़ा शहर का तापमान
रविवार को शहर का अधिकतम तापमान 39.4 डिग्री रिकॉर्ड हुआ। शनिवार को शहर का अधिकतम तापमान 37.4 डिग्री रिकॉर्ड हुआ था। वहीं शुक्रवार को अधिकतम तापमान 36 डिग्री था। इधर दोपहर बाद आसमान पर बादल छाए रहे। मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि हवा का एक चक्रीय चक्रवाती घेरा दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश के ऊपर 3.1 किलोमीटर ऊंचाई तक स्थित है। यहीं से एक द्रोणिका 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक मराठवाड़ा, तेलंगाना होते हुए तमिलनाडु तक स्थित है। प्रदेश में बंगाल की खाड़ी और अरब सागर दोनों से नमी मिल रही है। इसके कारण प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...