अर्जी खारिज:हाईकोर्ट में नौकरी लगाने के नाम पर की ठगी हाईकोर्ट से ही मांगी जमानत

बिलासपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नौकरी लगाने के नाम पर की ठगी - Dainik Bhaskar
नौकरी लगाने के नाम पर की ठगी

हाईकोर्ट में नौकरी लगाने के नाम पर 13 लोगों से 65 लाख की ठगी करने के आरोपियों की जमानत अर्जी हाईकोर्ट ने निरस्त कर दी है। निचली अदालत में मामला चलने का हवाला देते हुए आरोपियों ने हाईकोर्ट में अर्जी प्रस्तुत कर जमानत मांगी थी। रामा लाइफ सिटी में किराए से रह रहे यशवंत सोनवानी ने आशुतोष मिरी और अदिति पांडेय के साथ हाईकोर्ट में नौकरी दिलाने का प्रलोभन देकर कई लोगों को फंसा लिया।

इसमें यशवंत ने खुद को एसीबी का उप निरीक्षक, अदिति को धमतरी एसडीएम और आशुतोष को हाईकोर्ट का बाबू बताया। नौकरी लगाने के एवज में सकरी के रहने वाले राजा खांडे व अन्य लोगों से 65 लाख रुपए वसूल लिए। इसके एवज में हाईकोर्ट चीफ जस्टिस व रजिस्ट्रार जनरल के हस्ताक्षर वाला अपॉइनमेंट लैटर भी दिए।

इतना ही नहीं, आशुतोष मिरी के साथ पीड़ितों को हाईकोर्ट भेजकर वहां रजिस्टर में दस्तखत करवाकर फर्जी ज्वाइनिंग भी कराई गई। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। जमानत अर्जी पर शुक्रवार को जस्टिस पीपी साहू की बेंच में सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने सुनवाई के बाद अर्जी वापस लेने के आधार पर खारिज कर दी। शिकायतकर्ताओं की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक रंजन तिवारी और अतुल केशरवानी ने पैरवी की।

खबरें और भी हैं...