बच्चों पर संक्रमण का खतरा!:कई स्कूलों में वैक्सीनेशन सेंटर, टीकाकरण के साथ क्लासेज भी चलेंगी; अफसर बोले- बंद नहीं करेंगे, एंट्री अलग-अलग होगी

बिलासपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिलासपुर सहित प्रदेश में 2 अगस्त से सरकारी और निजी स्कूल खुल जाएंगे। वे स्कूल जिसे वैक्सीनेशन सेंटर बनाया गया है, वहां टीकाकरण के साथ क्लासेज भी होंगी। बिलासपुर के देवकीनंदन कन्या स्कूल, लाला लाजपत राय स्कूल के साथ साथ, बालमुकुंद स्कूल और ग्रामीण क्षेत्र के अधिकांश स्कूलों में वैक्सीनेशन किया जा रहा है। ऐसे में वैक्सीन के साथ कक्षाएं लगाने से बच्चों में संक्रमण बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

बिलासपुर के लाला लाजपतराय स्कूल के बाहर लगा वैक्सीनेशन सेंटर का बैनर।
बिलासपुर के लाला लाजपतराय स्कूल के बाहर लगा वैक्सीनेशन सेंटर का बैनर।

राज्य सरकार ने पहली से 5वीं तक, 8वीं की कक्षाएं और 10वीं व 12वीं की क्लास लगाए जाने की अनुमति दी है। ग्रामीण इलाकों में 8वीं तक निजी व सरकारी स्कूल खोलने का पूरा अधिकार पंचायतों को दे दिया गया है। इसमें पालक समिति की भूमिका भी होगी। शहरी इलाकों में स्कूल खोलने के लिए क्षेत्र के पार्षद और पैरेंट्स कमेटी की सिफारिश जरूरी होगी।

पढ़ाई के साथ वैक्सीनेशन पर असमंजस
वैक्सीनेशन तेज करने के लिए जिले के कई स्कूलों में इसके लिए सेंटर बना दिए गए हैं। शहर के लोग दूसरे वैक्सीनेशन सेंटर्स की तरह इन स्कूलों में भी वैक्सीन लगवाने जाते हैं। लेकिन, स्कूल खुलने पर बच्चों की पढ़ाई के साथ साथ वैक्सीनेशन कैसे चलेगा इसको लेकर फिलहाल असमंजस की स्थिति बनी हुई हैं।

देवकीनंदन स्कूल के प्रिंसिपल सचिन शर्मा
देवकीनंदन स्कूल के प्रिंसिपल सचिन शर्मा

गाइडलाइन को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी ने शुक्रवार को बुलाई स्कूलों की बैठक
देवकीनंदन स्कूल के प्रिंसिपल सचिन शर्मा ने दैनिक भास्कर को बताया कि जिला शिक्षा अधिकारी ने शुक्रवार को स्कूलों की बैठक बुलाई है। इसमें 2 तारीख से स्कूल खोलने को लेकर चर्चा की जाएगी। वहीं स्कूल के साथ साथ वैक्सीनेशन को लेकर भी गाइडलाइन जारी की जाएगी।

स्कूल में वैक्सीनेशन सेंटर पर रोक लगाए सरकार

बिलासपुर के अभिभावक संघ के अध्यक्ष मनीष कुमार अग्रवाल ने कहा- 18 से नीचे वाले बच्चों के लिए अब तक भारत में वैक्सीन नहीं आई है। ऐसे में स्कूलों में वैक्सीनेशन के काम पर तत्काल प्रभाव से सरकार को रोक लगानी चाहिए, या फिर वैक्सीनेशन को दूसरी जगह पर शिफ्ट किया जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो हम अपने बच्चों को स्कूल में नही भेजेंगे।

CMHO बोले- बच्चों को खतरा बना रहेगा

CMHO प्रमोद महाजन ने कहा अगर स्कूल हमें अनुमति देंगे तो वैक्सीनेशन स्कूलों में चलता रहेगा, लेकिन इससे बच्चों के संक्रमित होने का खतरा बना रहेगा। अगर अलग कमरा उपलब्ध करा दिया जाए तो हमें कोई दिक्कत नही है। स्कूलों में वैक्सीनेशन किया जाना है या नही यह जिला शिक्षा अधिकारी तय करेंगे।

साथ साथ चलेंगी वैक्सीनेशन और क्लासेज
जिला शिक्षा अधिकारी एसके प्रसाद ने भी साफ किया है कि स्कूलों में कक्षाएं और वैक्सीनेशन सेंटर दोनों साथ चलेंगे। दोनों के लिए अलग प्रवेश द्वारा होगा। कक्षाएं पूरी तरह सैनिटाइज कराई जाएंगी और बच्चों और शिक्षकों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क जरूरी किया गया है।

खबरें और भी हैं...