• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • VIP Cultur In CIMS Bilaspur | Chhattisgarh Employee Covid 19 Positive Mother Died When CIMS Bilaspur Did Not Get Ventilator Due To Being Reserved For VIP

VIP कल्चर ने छीनी जिंदगी!:CIMS में कर्मचारी की मां को नहीं मिला वेंटिलेटर, मौत; आरोप- विधायक के लिए रिजर्व रखा था, प्रबंधन की सफाई- ऐसा कोई प्रोविजन नहीं

​​​​​​​बिलासपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जितेंद्र ने न फेसबुक पर कुछ तस्वीरों के साथ पोस्ट शेयर की है। कहा है, विधायक शैलेष पांडेय, सिम्स प्रशासन के अधिष्ठाता और अधीक्षक के लिए वेंटीलेटर आरक्षित है। इसके अभाव में उनकी मां निधन हो गया - Dainik Bhaskar
जितेंद्र ने न फेसबुक पर कुछ तस्वीरों के साथ पोस्ट शेयर की है। कहा है, विधायक शैलेष पांडेय, सिम्स प्रशासन के अधिष्ठाता और अधीक्षक के लिए वेंटीलेटर आरक्षित है। इसके अभाव में उनकी मां निधन हो गया

बिलासपुर के CIMS में भर्ती एक कर्मचारी की मां की वेंटिलेटर नहीं मिलने से बुधवार को मौत हो गई। आरोप है कि वेंटिलेटर खाली था, लेकिन स्थानीय विधायक, अस्पताल HOD और अधीक्षक के नाम पर रिजर्व होने के कारण नहीं दिया गया। हालांकि CIMS प्रबंधन ने VIP या किसी के लिए वेंटिलेटर रिजर्व होने की बात से इनकार किया है।

बिलासपुर निवासी जितेंद्र दुबे CIMS में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी हैं। जितेंद्र ने कहा, उनकी मां दो दिन से ऑक्सीजन पर थी। दोपहर 2 बजे से वेंटिलेटर के लिए दौड़ना शुरू किया। नर्सों ने कहा कि वेंटिलेटर विधायक शैलेष पांडेय के नाम से बुक है। ऊपर गया तो वहां देखा कि 3 वेंटिलेटर खाली हैं। सबकी फोटो खींचकर विधायक को भेजी। उनसे बात की। विधायक ने कहा, ऐसी कोई बात नहीं है। उन्होंने डॉ. आरती से बात करने के लिए कहा।

कोविड इंचार्ज पर आरोप- उन्होंने वेंटिलेटर रिजर्व होने की बात कही
जितेंद्र ने सिम्स की कोविड इंचार्ज डॉ. आरती पांडेय पर आरोप लगाए हैं। कहा, HOD डॉ. आरती ने बताया कि एक वेंटिलेटर, विधायक, एक डीन और एक MS के लिए रिजर्व है। जितेंद्र ने फेसबुक पर कुछ तस्वीरों के साथ पोस्ट शेयर की है। कहा है, विधायक शैलेष पांडेय, सिम्स प्रशासन के अधिष्ठाता और अधीक्षक के लिए वेंटिलेटर आरक्षित है। इसके अभाव में उनकी मां निधन हो गया

डॉ. आरती ने आरोपों को झूठा बताया, कहा- कर्मचारी के लिए एक वेंटिलेटर खाली रहता है
उधर, डॉ. आरती ने बताया- दोपहर 2 बजे जितेंद्र ने कॉल किया कि उनकी मां को ऊपर शिफ्ट करा दीजिए। नीचे बाथरूम सही नहीं है। इस पर मैंने कहा कि शिफ्ट करा देंगे। इसके बाद रात 11 बजे कॉल किया कि उसकी मां नहीं बचेगी। उसने एक वेंटिलेटर की फोटो लेकर उसे रिजर्व बताया। अस्पताल में 10 वेंटिलेटर हैं। इसमें से 9 मरीजों को दिए जाते हैं। एक खाली रखते हैं। इससे इमरजेंसी के समय किसी स्टाफ को दे सकें। वह सिर्फ राजनीति कर रहा है। वेंटिलेटर पर किस मरीज को रखना है, यह ड्यूटी डॉक्टर तय करते हैं।

खबरें और भी हैं...