अफसरों की 'बार' पार्टी में बवाल:पुलिस अफसर दंपती को बाउंसरों ने एंट्री से रोका, परिचय के बाद भी हाथापाई; देर रात तक चलता रहा हंगामा, CM ने DGP से मांगी रिपोर्ट

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटना के बाद देर रात तक सिविल लाइन थाने में अधिकारी मौजूद रहे। बार संचालन से जुड़े लोग भी वहां रहे। - Dainik Bhaskar
घटना के बाद देर रात तक सिविल लाइन थाने में अधिकारी मौजूद रहे। बार संचालन से जुड़े लोग भी वहां रहे।

बिलासपुर में रविवार रात अफसरों की बार पार्टी में बवाल हो गया। पार्टी में शामिल कुछ लोगों से मिलने के लिए वहां जब पुलिस अफसर दंपती पहुंचे तो बाउंसरों ने उन्हें रोक लिया। इस पर अफसर ने अपना परिचय दिया। यहां तक कि उन्होंने ID कार्ड भी दिखाया, लेकिन बाउंसरों ने नहीं जाने दिया। विवाद इतना बढ़ा कि बाउंसर अफसर से दुर्व्यवहार करने लगे। सूचना मिली तो सिविल लाइंस थाना पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक आरोपी बाउंसर भाग निकला। इसके बाद देर रात करीब 3 बजे तक सिविल लाइन थाने में गहमागहमी रही, कुछ अफसर भी देर रात तक वहां रहे। सीएम ने डीजीपी से इस मामले की रिपोर्ट मांगी है।

रामा मैग्नेटो मॉल स्थित भूगोल बार में रविवार को अफसरों की पार्टी चल रही थी। इसमें कोतवाली CSP स्नेहिल साहू, गौरेला SDOP रश्मित कौर चावला, चकरभाठा CSP सृष्टि चंद्राकर और सहायक जेल अधीक्षक सोनाल डेविड सहित अन्य अफसर आमंत्रित थे। सहायक जेल अधीक्षक सोनाल डेविड अपनी पत्नी CSP सृष्टि चंद्राकर के साथ पार्टी में देर से पहुंचे। इस पर बाहर खड़े बाउंसर ने उन्हें रोक दिया। बाउंसर का नाम राहुल अग्रहरि बताया जा रहा है।

जानकारी लगते ही पुलिस पहुंच गई, लेकिन तब तक आरोपी बाउंसर वहां से भाग निकला।
जानकारी लगते ही पुलिस पहुंच गई, लेकिन तब तक आरोपी बाउंसर वहां से भाग निकला।

सवाल-जवाब से नाराज हुए अफसर दंपती, तो हुआ विवाद
आरोपी बाउंसर राहुल ने अफसर दंपती से सवाल-जवाब करना शुरू कर दिया। उन्होंने अपना परिचय दिया। नाराजगी जताते हुए अफसर ने आईडी कार्ड दिखाया। आरोप है कि राहुल ने हाथापाई शुरू कर दी। इसके बाद जमकर बवाल शुरू हो गया। घटना की जानकारी लगते ही सिविल लाइन पुलिस के साथ ही अन्य थानों की फोर्स मौके पर पहुंच गई, लेकिन तब तक आरोपी बाउंसर राहुल वहां से भाग निकला। इसके बाद पुलिस मैनेजर अंकित दुबे को पकड़ कर थाने ले गई। देर रात करीब 3 बजे सब लौट गए।

पुलिस की खुली छूट, बार संचालकों की चल रही मनमानी
भूगोल बार सहित शहर में इन दिनों बार संचालकों की मनमानी चल रही है। दरअसल, बार संचालकों को खुली छूट मिली हुई है। इसके चलते थानेदार व स्टाफ बार में जाने से डरते हैं। पिछले कई महीनों से बार में देर रात तक जाम छलकने और खुली शराब बेचने की जानकारी है। इसके बाद भी पुलिस अफसर कोई कार्रवाई नहीं करते। फिलहाल पुलिस अभी बाउंसर की तलाश कर रही है। किसी के खिलाफ FIR दर्ज नहीं की गई है।

दुर्व्यवहार किया, समझाने पर भी नहीं माना
सहायक जेल अधीक्षक और CSP सृष्टि चंद्राकर के पति सोनाल डेविड ने बताया कि रात में वे लोग पार्टी में शामिल दूसरे अफसरों से मिलने भूगोल बार गए थे। इस दौरान बार बाउंसर ने उनसे बदतमीजी की। बाउंसर को काफी समझाइश देने की कोशिश की गई। फिर भी बात नहीं बनी। इस पर आई कार्ड दिखाया, लेकिन वह दबंगई करता रहा। इसके चलते उन्हें पुलिस की मदद लेनी पड़ी। बाद में बार मैनेजर के माफी मांगने पर मामला शांत हो गया।

मामले में FIR नहीं, बाउंसर भी नहीं मिला
कुछ दिनों पहले जारी हुए लोक सेवा आयोग की चयन सूची में भी इस अफसर दंपती का मेरिट में स्थान आया है। सिविल लाइन थाना प्रभारी शनिप रात्रे ने बताया कि पुलिस अफसर भूगोल बार खाना खाने गए थे। रात में एंट्री को लेकर बार बाउंसर के साथ विवाद हो गया। बार बाउंसर की तलाश की गई, लेकिन वह नहीं मिला। इस मामले में कोई शिकायत व एफआईआर नहीं कराई गई है।

डीजीपी डीएम अवस्थी ने पूरी घटना की जांच रिपोर्ट बिलासपुर एसपी से मांगी है। उन्होंने कहा है इस मामले के सभी बिंदुओं पर जांच की जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी इस मामले को गंभीरता से लिया है। उन्होंने डीजीपी से इस घटना के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है।

खबरें और भी हैं...