पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सुविधा:शहर का ट्रैफिक सालभर बाद कैमरों से कंट्रोल होगा, 163.48 करोड़ रुपये खर्च होंगे

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पीएफआईसी की बैठक में स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा पेश आईटीएमएस का प्रस्ताव मंजूर, प्रशासकीय स्वीकृति के बाद होगा टेंडर
Advertisement
Advertisement

शहर में कैमरे से ट्रैफिक कंट्रोल की विश्वस्तरीय व्यवस्था साल भर के अंदर शुरू हो जाएगी। इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम को लागू करने वाला बिलासपुर रायपुर और नया रायपुर के बाद छत्तीसगढ़ का तीसरा स्मार्ट शहर होगा। इसके लिए बिलासपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा पेश 163.48 करोड़ की “आईटीएमएस” योजना के प्रस्ताव को गुरुवार को  मुख्य सचिव आरपी मंडल की अध्यक्षता में रायपुर में बुलाई गई पीएफआईसी की बैठक में मंजूरी दे दी गई। बैठक में सिस्टम के बारे में स्मार्ट सिटी के एमडी प्रभाकर पांडेय ने प्रेजेंटेशन दिया। उन्होंने बताया कि प्रशासकीय स्वीकृति की औपचारिकता पूरी होते ही टेंडर बुलाए जाएंगे। इसके साल भर में शहरवासियों को सहूलियत मिलने लगेगी। बता दें कि दो साल से प्रक्रियाओं में उलझे आईटीएमएस के प्रस्ताव पर ‘दैनिक भास्कर’ ने लगातार अपडेट दिया।
46 चौराहों पर 8 प्रकार के कैमरे लगाए जाएंगे
स्मार्ट सिटी का प्रोजेक्ट व्यापार विहार से लेकर गोंड़पारा, तिलक नगर, नेहरू नगर की पुरानी बस्ती के करीब 20 वार्डों के 1098 एकड़ क्षेत्र में क्रियान्वित होगा। ट्रैफिक सिस्टम का लाभ पूरे शहरवासियों को मिलेगा। 46 चौराहों में 8 विभिन्न प्रकार के कैमरे लगाए जाएंगे। स्वचलित कैमरे किसी चौराहे पर होने वाली भीड़ को एडोप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम से नियंत्रित करेगा। वह उस रोड तक पहुंचने वाले पहले दूसरे, तीसरे चौराहों की ट्रैफिक लाइट का टाइम वाहनों की संख्या के हिसाब से बढ़ा, घटा सकेगा। इसके चलते वाहनों की भीड़ एक जगह एकत्रित नहीं हो पाएगी और वह तेजी से आगे बढ़ेंगे।

तारबाहर में बनेगा कमांड एंड कंट्रोल सेंटर
इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम का कमांड एंड कंट्रोल सेंटर तारबाहर थाना परिसर में बनाया जाएगा। कंसालिडेटेड स्मार्ट साल्यूलेशन इंप्लीमेंटेशन प्रोग्राम लागू होते ही शहर को यातायात समस्या से मुक्ति मिलेगी। सिस्टम ‌शुरू होने के बाद यदि कोई ट्रैफिक रूल तोड़ेगा तो चालान संबंधित के पते पर पहुंच जाएगा। चौराहों पर लगे कैमरे के ज़रिए कंट्रोल रूम से पूरे शहर की निगरानी की जा सकेगी। नगरीय निकाय की ई-गवर्नेंस सेवा का लाभ सीधे यहां से भी लिया जा सकेगा। किसी भी आपदा के समय कंट्रोल रूम के ज़रिए उससे निपटने का काम आसानी से किया जा सकेगा,दुर्घटना होने पर तत्काल मदद मिलेगी।

ये सहूलियतें भी मिलेंगी 

  • इमर्जेंसी कॉल बाक्स : खास और संवेदनशील जगहों पर बाक्स लगाया जाएगा। यह दो तरह से कार्य करेगा। कोई भी पुलिस, मेडिकल या अन्य तरह की तात्कालिक सेवा प्राप्त करने के लिए अपनी गुहार सेंट्रल कंट्रोल कमांड तक पहुंचा सकेगा। लाल बटन(पैनिक बटन) का दुरुपयोग रोकने के लिए इसमें सूक्ष्म कैमरा रहेगा, जो शिकायतकर्ता की तस्वीरें लेगा। 
  • पब्लिक एड्रेस सिस्टम: चौराहों पर विशिष्ट अवसरों पर संदेश देने के लिए लाउड स्पीकर लगाया जाएगा। 
  • पीटीजेड कैमरा: 100 मीटर की दूरी तक रोड की हर गतिविधियों को 360 डिग्री एंगल से वीडियो रिकार्डिंग करेगा। नाइट विजन कैमरा रहेगा, जो पर्यावरण की प्रतिकूलताओं के बावजूद कार्य करेगा। वाहनों की शिनाख्त करने वाले विभिन्न कैमरे अलग-अलग कार्य करेंगे, जैसे दुर्घटना या चोरी होने पर नंबर प्लेट के आधार वाहन मालिक तक पहुंचाएगा। 
Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement