किसान हो रहे परेशान:कलेक्टर से बंदर व जंगली सुअरों की शिकायत, किसानों ने कहा- भरमार बंदूक का लाइसेंस दें

बिलासपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सब्जी व फल उगाने वाले किसानों ने बंदर  और जंगली सुअरों की शिकायत कलेक्टर से  की है। - Dainik Bhaskar
सब्जी व फल उगाने वाले किसानों ने बंदर  और जंगली सुअरों की शिकायत कलेक्टर से  की है।

सब्जी व फल उगाने वाले किसानों ने बंदर और जंगली सुअरों की शिकायत कलेक्टर से की है। उन्होंने कलेक्टर को पत्र लिखकर अपनी समस्या बताई है। उन्होंने कहा है कि वे जंगली सुअर और बंदर उनकी फसल को तबाह कर रहे हैं। खड़ी फसल को भारी नुकसान पहुंच रहा है।

छत्तीसगढ़ युवा प्रगतिशील किसान संघ के शकील हुसैन ने पत्र लिखकर बताया कि वे सब बिलासपुर जिले के विभिन्‍न क्षेत्रों के सब्जी व फल उत्पादक किसान हैं। वे अपने फार्म में मजबूत फैंसिंग लगाकर फार्मिंग करते हैं। पिछले कुछ वर्षों से जंगली सुअरों व बंदरों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई है। ये दोनों जानवर हम किसानों के फार्म मे घुसकर खड़ी फसल मे भारी नुकसान पहुंचा रहे हैं।

जंगली सुअर मिट्टी खोदकर जाली फैंसिंग के नीचे से फार्म में प्रवेश कर जाते हैं। साथ ही बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाई गई नाली से भी फार्म के अन्दर घुस आते हैं। बन्दर पेड़ से पेड़ छलांग मारते हुए फार्म के अंदर अलग-अलग जगह से घुस जाते है। जंगली सुअर पेड़-पौधे के जड़ों को खोदकर खा जाते हैं और बंद फसल को नोच-नोच कर खा जाते हैं।

इन जंगली जानवरों से अपने फार्म की सुरक्षा के लिए किसानों को ऑन -डिमांड भरमार बंदूक का लाइसेंस देने की आसान प्रक्रिया शुरू की जाए। हम सारे किसानों का विनम्र अनुरोध है कि इस मामले में त्वरित व ठोस कार्यवाही करें। जंगली जानवरों की संख्या नियंत्रित करने का कोई अचूक प्लान तैयार किया जाए।

लोन लेकर खेती, नुकसान से परेशानी
किसानों ने बताया कि अधिकांश किसान विभिन्न बैंक से लोन लेकर खेती कर रहे हैं। वर्तमान में खेती करना काफी महंगा हो चुका है। वहीं अच्छे उत्पादन के लिए उन्होंने हाईटेक फार्म स्थापित किया है। लेकिन जंगली सुअर और बंदरों की वजह उनका जीना हराम हो चुका है। उन्हें आर्थिक क्षति हो रही है।

अकेला देखकर हमला भी करते हैं
किसानों ने बताया कि यदि श्रमिक अकेले हो तो जंगली सुअर और बंदर उन पर हमला कर देते हैं। जंगली सुअरों व बंदरों के हमले के कारण किसान डरे भी हुए हैं। अत्यधिक आर्थिक क्षति तो पहले से हो रही है। ये क्षति प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। ये जानवर इतने बेखौफ हो चुके हैं कि वे आसानी से भागते भी नहीं हैं।

खबरें और भी हैं...