निजी अस्पताल की शिकायत:प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना के इलाज में मनमानी वसूली की शिकायतें बढ़ीं

बिलासपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • केयर एंड क्योर अस्पताल के खिलाफ थाने में हुई शिकायत

कोरोना का दर्द और उस पर कुछ निजी अस्पताल संचालकों के मनमाने रवैये ने आम आदमी की कमर तोड़ कर रख दी है। इलाज के नाम पर जम कर पैसा वसूली की जा रही है। इन अस्पतालों की लगातार शिकायतें भी लोग जिम्मेदारों से कर रहे हैं कि लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। गुरुवार को भी केयर एंड क्योर अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही और मरीज के परिजनों से रुपए वसूलने की शिकायतें कलेक्टर, सीएमएचओ तथा सिविल लाइन पुलिस थाने में की गई है।

सुशीला साहू के पति कोमल साहू की 16 अप्रैल को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो उन्हें इलाज के लिए केयर एंड क्योर अस्पताल में भर्ती कराया गया। सुशीला ने डॉक्टर सिद्धार्थ वर्मा को फोन किया तो उन्होंने नहीं उठाया। फिर उन्होंने डा. खान को फोन किया तो उन्होंने कहा कि वह देखते हैं।

डा. खान ने नर्स ने इंजेक्शन देने को कहा और घर चले आए। रात में एक बजे अस्पताल से सुशीला के पास फोन पहुंचा कि हालत बहुत खराब है वैंटिलेटर रखना होगा। एक घंटे बाद फिर सुशीला के पास फोन पहुंचा और बताया गया कि उनके पति की मौत हो गई है। सुशीला ने गुरुवार को आरोप लगाया कि उनके पति को रुपयों के लिए जान-बूझकर मारा गया है, इसलिए अस्पताल में लगे सीसीटीवी की फुटेज उन्हें दी जाए।

स्टाफ का व्यवहार सही नहीं, मेरे साथ गलत हो रहा

केयर एंड क्योर अस्पताल के डॉक्टर व स्टाफ की कारगुजारियों की एक और शिकायत कलेक्टर से की गई है। यह शिकायत उत्कर्षा झारिया ने की है। इसमें बताया गया है कि उनके पिता संतोष झारिया का इलाज केयर एंड क्योर में हो रहा था। दो दिन तक मोबाइल पर बात की। लेकिन उसके बाद बात नहीं हो सकी। नर्स के मोबाइल से पापा ने फोन किया और बताया कि उनका मोबाइल चोरी हो गया है। उन्हें नया मोबाइल लेकर दिया। मेरे पापा संतोष झारिया ने बताया कि अस्पताल में उनके साथ बहुत गलत हो रहा है। स्टाफ सही व्यवहार नहीं करता।

कारण बताओ नोटिस जारी किया है

सुशीला साहू के पति की मौत के मामले में केयर एंड क्योर अस्पताल प्रबंधन को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उनसे पूरे मामले की जानकारी मांगी गई है कि किन हालातों में मरीज की मौत हुई ।
-डा. प्रमोद महाजन, सीएमएचओ

खबरें और भी हैं...