एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन:विषैले नाग की तरह है सीयू, इसके फन पर नृत्य करते कुलपति आगे बढ़ रहे हैं: प्रो. वाजपेयी

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अलग बयान: सीयू में नई शिक्षा नीति पर राष्ट्रीय संगोष्ठी हुई

सेंट्रल यूनिवर्सिटी में एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी का विषय राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन में गुरुकुल शिक्षा, सांस्कृतिक मूल्य तथा भारतीय ज्ञान परंपरा का योगदान था। संगोष्ठी की शुरुआत में तरंग बैंड ने सरस्वती वंदना व कुलगीत की प्रस्तुति दी। इसके बाद सीयू में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन के लिए गठित टास्क फोर्स समिति के सदस्य प्रो. बीएन तिवारी ने अतिथियों व कुलपति का परिचय बताते हुए स्वागत उद्बोधन दिया।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के समन्वयक प्रो. पीके वाजपेयी ने संगोष्ठी की रूपरेखा बताई। प्रो. वाजपेयी ने कहा कि कुलपति जब से आए हैं, तब से यूनिवर्सिटी एकेडमिक व प्रशासनिक क्षेत्र में आगे बढ़ रही है। विषैले नाग रूपी सीयू के फन पर कुलपति प्रो. आलोक चक्रवाल कृष्ण की तरह नृत्य करते हुए आगे बढ़ रहे हैं। इनका साथ हनुमान की तरह कुलसचिव शैलेंद्र कुमार दे रहे हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो. चक्रवाल ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को विश्वविद्यालय में संपूर्ण रूप से अग्रणी रहते हुए क्रियान्वित करने के अपने संकल्प को दोहराया। देश के श्रेष्ठ शिक्षा मनीषियों एवं विचारकों के अथक प्रयासों से राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को क्रियान्वित किया जाना वाला स्वरूप आया है, जिसमें मातृभाषा में शिक्षा की उपलब्धता को सुनिश्चित किये जाने का प्रयास किया गया है। सभी भाषाओं का सम्मान होना चाहिए, लेकिन मातृभाषा से समझौता नहीं किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि एनईपी क्रियान्वयन के शुरुआती चरण में आठ भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग की पढ़ाई प्रारंभ हो गई है। विश्वविद्यालय द्वारा भारतीय शिक्षण मंडल के साथ किया गया सहयोग, समझौता शोध एवं अनुसंधान को नई ऊंचाइयां प्रदान करेगा।

खबरें और भी हैं...