पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सिम्स:डेंटल एक्सरे शुरू नहीं, 450 रुपए में बाहर से करा रहे, मरीजों की परेशानी बरकरार

बिलासपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोविड इंफेक्शन कम हुआ, 10 दिन पहले अधीक्षक ने चालू करने कहा था फिर भी मरीजों की परेशानी बरकरार

कोरोना के केस कम होने के बाद भी सिम्स की व्यवस्थाएं पटरी पर नहीं लौटी हैं। दांतों का इलाज कराने वाले मरीजों का एक्सरे अस्पताल में नहीं हो रहा है। कोरोना के डर के कारण मार्च 2020 से सिम्स ने डेंटल एक्सरे करना बंद कर दिया था।

दोबारा इसे अभी तक शुरू नहीं किया गया। मरीजों को मजबूरन अस्पताल के बाहर खुली दुकानों पर ज्यादा पैसे देकर डेंटल एक्सरे करवाना पड़ रहा है। हर दिन अस्पताल में 40 से 50 मरीज दांत के इलाज के लिए पहुंचते हैं। लेकिन अस्पताल में सुविधाएं होने के बाद भी मरीजों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। सरकारी दरों पर इलाज की उम्मीद लेकर पहुंचने वाले मरीजों को 450 से 500 रुपए जांच करवाने के लिए देने पड़े रहे हैं। परेशान मरीजों का कहना है कि अगर हमारे पास ज्यादा पैसे होते तो हम सरकारी अस्पताल में इलाज कराने क्यों आते। लेकिन यहां के डॉक्टर बाहर से जांच कराने के लिए लिख देते हैं।

डॉक्टरों से पूछा कि यहां डेंटल एक्सरे क्यों नहीं कर रहे हैं तो उन्होंने कोरोना का नाम लेकर अभी डेंटल एक्सरे बंद होना बताया। जबकि सिम्स अधीक्षक ने डेंटल एक्सरे चालू करने के लिए 10 दिन पहले ही डॉक्टरों से कह दिया था, लेकिन डॉक्टरों ने अभी तक सिम्स में इसे शुरू नहीं किया है। इस बारे में जब डॉ. संदीप प्रकाश से पूछा गया कि अधीक्षक के कहने के बाद भी डेंटल एक्सरे शुरू नहीं किया गया? इस सवाल पर डॉ. संदीप ने कहा कि मैं कुछ नहीं बता पाऊंगा। सिम्स की पीआरओ डॉक्टर आरती पांडेय का कहना है कि कोरोना के कारण डेंटल एक्सरे बंद किया गया। अभी क्यों बंद है कल पता करके बता पाऊंगी।

अस्थि रोगियों के ऑपरेशन जल्द शुरू होंगे, 15 दिन के भीतर सी-आर्म मशीन आ सकती है
इधर सिम्स में हड्डी से जुड़े ऑपरेशन अभी तक शुरू नहीं हो पाए। कारण है अफसरों का इस ओर ध्यान नहीं देना। इस ऑपरेशन में काम आने वाली सी-आर्म मशीन दो साल से खराब पड़ी है। जैसे तैसे सालभर पहले सीजीएमएससी ने दो सी-आर्म मशीनें खरीदकर दीं लेकिन प्रबंधन उनका इस्तेमाल इसलिए नहीं कर रहा है, क्योंकि उनकी मांग के अनुसार मशीन नहीं दी गई। इस कारण पिछले हर महीने 120 मरीज हड्डी का ऑपरेशन बिना कराए लौट रहे हैं।

लोगों को निजी अस्पतालों में 30 से 40 हजार रुपए खर्च कर ऑपरेशन कराना पड़ रहा है। अधीक्षक डॉ. पुनीत भारद्वाज का कहना है कि सीजीएमएससी को सी-आर्म की दूसरी मशीनें देने के लिए कहा गया है। कब तक देंगे इस बारे में कुछ बता पाना मुश्किल है। इधर सीजीएमएससी के अफसरों के बताया कि सिम्स की मांग के अनुसार दूसरी मशीनों के लिए टेंडर कर दिया गया है। उम्मीद है 10-15 दिन में मशीनें आ जाएंगी।

डेंटल एक्स-रे की जरूरत क्यों पड़ती है
डेंटल एक्सरे के द्वारा दांतों की उन जगहों में मौजूद सड़न देखी जा सकती है, जिन्हें हम आंखों से नहीं देख सकते जैसे-दांतों के बीच की सड़न। मसूड़े से संबंधित बीमारी, दांतों में इंफेक्शन, रूट कनाल के दौरान हुई परेशानी, ब्रेसेस, डेंचर या अन्य तमाम दांत से जुड़ी समस्याएं भी डेंटल एक्स-रे के द्वारा जानी जा सकती हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें