पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

देवउठनी एकादशी मनी:उठे देव, शुरू हो गए विवाह, अभी सात मुहूर्त गड़वा बाजा की बोली 90 हजार तक लगी

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • घरों में गन्ने से सजा मंडप, शालिग्राम तुलसी विवाह हुआ

चार माह तक शयन के बाद भगवान विष्णु के जागने पर बुधवार को देवउठनी एकादशी से मांगलिक कार्यों की शुरुआत हो गई। इस मौके पर घरों में शालिग्राम-तुलसी विवाह किया गया। लोगों ने घरों के बाहर और छत पर रंगोली बनाने के साथ गन्ने का मंडप सजाकर तुलसी पूजन किया। साथ ही आतिशबाजी भी गई। कोरोना महामारी के कारण मंदिरों में तुलसी विवाह के सामूहिक आयोजन नहीं हुए। देवउठनी एकादशी से ही विवाह मुहूर्त फिर शुरू हो गए। देवउठनी एकादशी या देव प्रबोधनी एकादशी रवि योग में मनाई गई। देवउठनी एकादशी अबूझ मुहूर्त की श्रेणी में आता है। इस दिन से विवाह, जनेऊ संस्कार, नूतन गृह निर्माण व गृह प्रवेश जैसे मांगलिक कार्य शुरू हो गए। मिथुन के स्वामी बुध ग्रह स्वयं विष्णु प्रधान हैं। इसलिए भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना मिथुन लग्न में करना श्रेष्ठ माना जाता है।

कम मुहूर्त, चूके तो अप्रैल तक करना होगा इंतजार
पांच माह के लंबे अंतराल के बाद विवाह की शहनाइयां एक बार फिर बजने लगी हैं, लेकिन इस साल के अंतिम माह दिसंबर तक केवल 7 दिन ही मुहूर्त रहेंगे। नवंबर में सिर्फ 2 और अगले माह दिसंबर में केवल 5 दिन ही मुहूर्त हैं। इन दिनों में शहर व आसपास के क्षेत्रों में सैकड़ों जोड़ों के दांपत्य सूत्र में बंधने का अनुमान है। इसकी दो बड़ी वजह हैं। एक यह कि गत मार्च से जुलाई तक कोरोना महामारी से बचाव के लिए लॉकडाउन लगने और शासन की गाइडलाइन की बंदिशों के चलते काफी कम जोड़ों के विवाह हो सके थे। दूसरी वजह यह है कि अब यदि जो लोग नवंबर व दिसंबर माह के मुहूर्त में विवाह करने से चूक जाएंगे तो उन्हें फिर मुहूर्त के लिए 22 अप्रैल तक का लंबा इंतजार करना होगा।

बैठक में नियम पालन के लिए चर्चा हुई
देवउठनी एकादशी से शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में रावत नाच शुरू हो गया। बुधवार को शहर में नर्तकियों और बजगरियों का मेला लगा रहा। शनिचरी बाजार में लगभग 50 नर्तक दल पहुंचे। लोग नर्तक दलों की बोली लगाकर ले गए। ये घर-घर घूमकर दोहों और चौपाई के साथ नृत्य कर आशीष देंगे। गोंड़पारा शिव मंदिर, शनिचरी बाजार में तकरीबन 15 गड़वा बाजा दल आए। सराईपाली, बसना, सारंगढ़, रायगढ़, रायपुर के साथ ही पामगढ़, शिवरीनारायण, मुंगेली, लोरमी के नर्तक दल शामिल हैं। कुछ दल उड़ीसा से भी आए हैं। हर दल में 15 से 20 सदस्य हैं। चोरभट्‌ठी के नर्तक दल गड़वा बाजा को लगभग 90 हजार की बोली लगाकर ले गए। बुधवार को कम बाजा आए थे, गुरुवार को और मेला लगा रहेगा। लालबहादुर शास्त्री स्कूल मैदान में 5 दिसंबर को रावत नाच महोत्सव होगा। इसमें नर्तक दल नृत्य के अलावा अपनी शौर्य और सौंदर्य कला का प्रदर्शन करेंगे। आयोजन समिति की बैठक में बुधवार को गोलो को इस बार शासन के नियम के साथ शामिल होने को लेकर चर्चा की गई। महापौर रामशरण यादव ने समिति के सदस्यों के साथ देवकीनंदन सभा गृह में बैठक की। समिति के संयोजक डॉ. कालीचरण यादव ने कहा कि शासन की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। आरजी यादव, धन्नू लाल यादव आदि मौजूद रहे।

विषम संख्या में बने गन्ने के मंडप
श्रद्धालुओं ने विशेष रूप से विषम 5,7,11 गन्नों का मंडप बनाया। भगवान विष्णु को धूप, दीप, फूल, गंधक, चंदन, फल व अर्घ्य देकर दीपदान कर अन्नकूट का भोग लगाया। पूजा में सिंघाड़ा, आंवला, बेर, मूली, सीताफल, अमरूद, कांदा, बैचांदी आदि ऋतु फल, सब्जी, मिष्ठान व खीर का भोग लगा। देवउठनी एकादशी को छोटी दिवाली के रूप में मनाया गया। जमकर आतिशबाजी की गई।

पूजन सामग्री बिकी
देवउठनी एकादशी, तुलसी और शालिग्राम विवाह को लेकर बुधवार को सुबह से ही बाजार में भीड़ रही। गोल बाजार, सदर बाजार, बृहस्पति बाजार, बुधवारी बाजार, पुराना बस स्टैंड सहित अन्य जगहों पर गन्ना, शकरकंद, मूंगफली और पूजा सामग्री लेने वालों की भीड़ रही।

15 दिसंबर से 14 जनवरी तक रहेगा मलमास
ज्योतिषाचार्यों ने बताया कि मलमास 15 दिसंबर से 14 जनवरी तक रहेगा। इसके कारण विवाह जैसे मांगलिक कार्य वर्जित होंगे। 17 जनवरी को देव गुरु बृहस्पति 13 फरवरी तक अस्त हो जाएंगे। इसके उपरांत 14 फरवरी से 18 अप्रैल तक शुक्र अस्त रहेगा। 14 मार्च से 13 अप्रैल तक मीन संक्रांति रहेगी। 22 से 28 मार्च तक होलिका अष्टक लग जाएंगे। लिहाजा इन सभी कारणों के चलते आगामी विवाह मुहूर्त 25 अप्रैल से प्रारंभ होंगे। देवशयनी एकादशी 20 जुलाई को मनाई जाएगी। इसके बाद चार माह के लिए शुभ कार्य बंद रहेंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का अधिकतर समय परिवार के साथ आराम तथा मनोरंजन में व्यतीत होगा और काफी समस्याएं हल होने से घर का माहौल पॉजिटिव रहेगा। व्यक्तिगत तथा व्यवसायिक संबंधी कुछ महत्वपूर्ण योजनाएं भी बनेगी। आर्थिक द...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser