चिटफंड:जीएन गोल्ड कंपनी का डायरेक्टर हरियाणा से पकड़ा गया, प्रदेश के 16 केस में करोड़ों की ठगी का आरोप

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसपी दीपक झा व एएसपी रोहित कुमार झा, पीछे दो थानेदारो के बीच आरोपी। - Dainik Bhaskar
एसपी दीपक झा व एएसपी रोहित कुमार झा, पीछे दो थानेदारो के बीच आरोपी।

चिटफंड के 16 मामलों में करोड़ों की ठगी करने वाले जीएन गोल्ड कंपनी के डायरेक्टर को पुलिस ने हरियाणा से गिरफ्तार किया है। इस कंपनी के खिलाफ जिले के विभिन्न थानों में 7 और प्रदेश के अन्य जिले जैसे-धमतरी, कोरबा, सूरजपुर, रायपुर, दुर्ग, बेमेतरा में 9 केस दर्ज है। जिले में कंपनी ने 5 करोड़ की ठगी की है। एसएसपी दीपक झा ने चिटफंड के प्रकरणों पर फरार आरोपियों की गिरफ्तारी करने व निवेशकों की धन वापसी के लिए सभी थानेदारों को निर्देश दिए थे।

इसी के अंतर्गत चिटफंड के नोडल अधिकारी एएसपी ग्रामीण रोहित कुमार झा ने विभिन्न कंपनियों के खिलाफ थानों में दर्ज प्रकरणों मे आरोपियों को पकड़ने टीम गठित की। इसी कड़ी में जीएन गोल्ड के फरार आरोपियों की तलाश के लिए टीम टीआई कलीम खान के नेतृत्व में रतनपुर व बिल्हा थाने की एक टीम दिल्ली व हरियाणा गई थी। यहां से नरेंद्र सिंह 57 वर्ष धमकोरा रोड टोहाना शहर जिला फतेहाबाद हरियाणा को मशक्कत के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। उसे 28 नवंबर को हिरासत में लेकर 29 नवंबर को हरियाणा में गिरफ्तार कर ट्रांजिट रिमांड पर लिया गया। टीम ने बुधवार को आरोपी को बिलासपुर लेकर आई और विशेष कोर्ट में पेश की।

रकम दोगुना करने का दिया था लालच

रतनपुर में 19 अप्रैल 2017 को बुधवरिया बाई पैकरा व बिल्हा में 25 जुलाई 2017 को पुदन सिंह राजपूत ने कंपनी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जीएन गोल्ड कंपनी के संचालक सतनाम सिंह रधावा, शैलेंद्र गोस्वामी, देवेश बजाज व अवधराम साहू, नरेंद्र सिंह व अन्य डायरेक्टरों ने मिलकर 6 वर्ष में उन्हें रकम दोगुना करने का लालच देकर 60 हजार रुपए व अन्य से करोड़ों रुपए जमा कराए।

बदले में बांड भी दिया पर पैसा वापसी का समय आया तो आफिस से ताला लगाकर एजेंट व डायरेक्टर फरार हो गए। एफआईआर के बाद डायरेक्टर सतनाम सिंह रंधावा व देवेश बजाज को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया था। फरार आरोपियों में शैलेंद्र गोस्वामी की सम्पत्ति कुर्क करने के लिए धमतरी कलेक्टर को चिट्ठी लिखी गई है।

तोरवा, बिल्हा, रतनपुर तखतपुर सरकंडा मस्तूरी व कोटा में है एफआईआर
जीएन गोल्ड कंपनी के खिलाफ जिले के तोरवा, बिल्हा, रतनपुर तखतपुर सरकंडा मस्तूरी, कोटा में 7 व राज्य के अन्य जिले जिनमें धमतरी, कोरबा, सूरजपुर, रायपुर, दुर्ग, बेमेतरा में 9 केस दर्ज है। कुल 16 केस में करोड़ों की ठगी का आरोप है। बिलासपुर जिले में कंपनी ने ग्राहक बनाकर रकम दोगुना करने का झांसा दिया और करीब 5 करोड़ की ठगी की।

खबरें और भी हैं...