पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कर्मचारियों ने की गड़बड़ी:करंट रिजर्वेशन टिकट में गड़बड़ी, 3 सस्पेंड

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिलासपुर से कल्याण के लिए करंट रिजर्वेशन टिकट बनाने वाली महिला बुकिंग क्लर्क उसकी एक सहयोगी और कैशियर को सोमवार को सस्पेंड कर दिया गया है। सहयोगी द्वारा क्लर्क को अपना आईडी देने और कैशियर द्वारा दो पार्ट में पैसा जमा करने से मामला संदेहास्पद हो गया है।

बिलासपुर रेलवे रिजर्वेशन काउंटर से 22 जुलाई को रात लगभग 10 बजे जांजगीर-चांपा के भागीरथ विश्वकर्मा नामक व्यक्ति ने गीतांजलि एक्सप्रेस से कल्याण जाने के लिए टिकट काउंटर क्रमांक 3 से करंट रिजर्वेशन कराया और जो बर्थ टिकट पर था उस पर बैठकर वह नागपुर तक पहुंच गया। नागपुर पहुंचने के बाद उसी बर्थ पर दूसरा यात्री पहुंचा। इस पर विवाद होने लगा तो टीटीई ने दोनों की की टिकट जांच की तो नागपुर से बुक की गई टिकट वाले यात्री का नाम व पीएनआर नंबर चार्ट पर दिखाई दे रहा था लेकिन बिलासपुर से जारी टिकट चार्ट में नहीं दिख रही थी।

चलती ट्रेन में विवाद होता रहा था। बिलासपुर से यात्रा कर रहे यात्री के पास जो टिकट थी उस पर स्क्रीन शॉट वाला प्रिंट था। इसके बाद टीटीई ने संदेह के आधार पर भागीरथ को भुसावल आरपीएफ के हवाले कर दिया। आरपीएफ की टीम 25 जुलाई को भागीरथ को लेकर बिलासपुर पहुंची और अधिकारियों को जानकारी देकर मामले की जांच शुरू की। दूसरी तरफ सीनियर डीसीएम पुलकित सिंघल ने मामले की जांच के लिए मातहत अधिकारियों को लगाया। बताया जा रहा है कि जांच में अधिकारियों ने पाया कि 22 जुलाई की रात ड्यूट पर उपस्थित तीन महिला कर्मचारियों ने यह गड़बड़ी की है। टिकट काउंटर पर बैठी डी निहारिका राव के पास उक्त व्यक्ति टिकट बनवाने के लिए काउंटर पर पहुंचा।

बताया जा रहा है कि निहारिका की आईडी काम नहीं कर रही थी इसलिए उसने अपनी सहयोगी पी सीमा की आईडी का इस्तेमाल टिकट बनाने के लिए किया। टिकट बनाकर उसने यात्री को दे दिया। इसके बाद दोनों क्लर्क ने ड्यूटी ऑफ होने के बाद काउंटर की राशि कैशियर निम्मी सोना कांति के पास जमा करा दी। निम्मी सोना ने पैसे गिनने के बाद सिस्टम में चेक किया तो देखा कि कुछ राशि अधिक है। उन्होंने पैसा जमा करा दिया।

दूसरे दिन उन्होंने अतिरिक्त राशि भी जमा कराई। इन कर्मचारियों द्वारा किया गया यह काम ही उन्हें संदेह में लाकर खड़ा कर दिया। सहयोगी कर्मचारी की आईडी का इस्तेमाल करना और कैशियर द्वारा दो टुकड़ों में राशि जमा करना ही नियमत: गलत है। सीनियर डीसीएम पुलकित सिंघल ने क्लर्क डी. निहारिका राव, बुकिंग क्लर्क पी. सीमा व कैशियर निम्मी सोना कांति को सस्पेंड कर दिया गया है।

खबरें और भी हैं...