सब्जियों पर बारिश का असर:आलू, प्याज को छोड़कर हर सब्जी 40 रुपए किलो से ज्यादा, जल्दी खराब हो रहीं सब्जियां, सप्ताहभर तक नहीं कम होंगी कीमतें

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाहर से खूब सब्जियां आई और लोकल भी ज्यादा पैदावार रही, इस कारण कीमत इस बारिश में कम रही। - Dainik Bhaskar
बाहर से खूब सब्जियां आई और लोकल भी ज्यादा पैदावार रही, इस कारण कीमत इस बारिश में कम रही।

जिले और राज्य में हुई अच्छी बारिश का असर सब्जियों कीमत में देखने को मिल रहा है। महज चार-पांच दिनों में ही सब्जियों की कीमत में भारी वृद्धि हुई है। पांच दिन पहले 20 रुपए में बिकने वाला टमाटर 30 से 35 रुपए हो गया है। टमाटर, अरबी, खीरा, आलू, प्याज और कुम्हड़ा को छोड़कर कोई भी सब्जी 40 रुपए किलो से कम में नहीं मिल रही है। ऐसा अनुमान है कि सब्जियों की कीमत अभी एक सप्ताह तक ऐसे ही रहेंगी।

यह पहली बार है जब बारिश के सीजन में अधिकांश सब्जियां सस्ती मिल रही थी। इसकी वजह ये कि धमधा इलाके के किसानों ने सोयाबीन की खेती में हुए नुकसान के बाद सब्जियों की खेती ज्यादा की। वहीं लोकल किसानों ने भी सब्जी का रकबा बढ़ाया। नतीजा ये हुआ कि मांग से ज्यादा आपूर्ति होने लगी। इसका असर ये हुआ कि किसानों को इस बार अपनी उपज के अच्छे दाम नहीं मिले।

करेली, बरबट्टी चार से पांच रुपए तो लौकी तीन रुपए में थोक में बेचना पड़ा। हालांकि भाड़ा, कमीशन और चिल्हर विक्रेताओं के कमीशन के कारण लोगों को सब्जियां बहुत सस्ती नहीं मिली लेकिन फिर भी विगत वर्षों के बारिश के मौसम के हिसाब से कीमतें कम रही।

जैसे टमाटर इस सीजन में 50 से 60 रुपए किलो हो जाता था, लेकिन इस बार 20 रहा और अब 30 से 35 रुपए पर पहुंचा है। अभी सब्जियों के दाम इसलिए बढ़े क्योंकि पिछले दिनों हुई बारिश से सब्जियां खराब हुई और झड़ी लगने के कारण बाड़ियों से इन्हें तोड़ा नहीं जा सका। मचान सिस्टम में खेती कम करने के कारण भी बारिश में सब्जियां खराब हुई।

7-8 दिन में सामान्य हो जाएंगी कीमतें- मुकेश

तिफरा सब्जी मंडी व्यापारी संघ के अध्यक्ष मुकेश अघिजा का कहना है कि महज दस दिन पहले लगभग सभी सब्जियां थोक में 5 रुपए किलो में बिक रही थी। बारिश होने के कारण सब्जियां खराब हुई और इनकी सप्लाई कम होने से कीमतें बढ़ गई है। हालांकि 7-8 दिन में सब्जियों की कीमत सामान्य हो जाएगी। बाहर से भी खूब सब्जियां आई और लोकल भी ज्यादा पैदावार रही, इस कारण कीमत इस बारिश में कम रही।

खबरें और भी हैं...