कवर्धा हिंसा और पत्थलगांव हादसे की न्यायिक जांच की मांग:BJP नेता बोले- मुख्यमंत्री को है UP की चिंता, कांग्रेस के संरक्षण में चल रहा नशे का कारोबार

बिलासपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीजेपी नेताओं ने सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए ये बयान दिया है। - Dainik Bhaskar
बीजेपी नेताओं ने सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए ये बयान दिया है।

बिलासपुर में भाजपा के प्रदेश महामंत्री भूपेंद्र सवन्नी ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री को यहां की जनता की चिंता नहीं है। कवर्धा में धर्मसेना पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को झूठे केस में फंसा दिया गया। पत्थलगांव में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान गांजा तस्करों ने श्रद्धालुओं को रौंद दिया। फिर उनकी खैरियत पूछने के बजाय मुख्यमंत्री को उत्तरप्रदेश के लखीमपुर की चिंता हो रही है। वहीं, शांति का टापू के रूप में पहचान स्थापित करने वाला छत्तीसगढ़ अपराधगढ़ बन गया है। एनसीईआर की रिपोर्ट में अपराध के मामलों में छत्तीसगढ़ अव्वल है।

भूपेंद्र सवन्नी, बेलतरा विधायक रजनीश सिंह व भाजपा जिलाध्यक्ष रामदेव कुमावत का आरोप है कि प्रदेश में गांजा, शराब सहित अन्य नशीले पदार्थों की तस्करी कांग्रेस नेताओं के संरक्षण में हो रही है। पिछले चार माह से राज्य में प्रशासनिक व विकास कार्य ठप पड़े हुए हैं। कांग्रेस के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपनी कुर्सी बचाने में ताकत लगा रहे हैं। स्थिति यह है कि प्रदेश में अस्थिरता का वातावरण है। वहीं, कानून व्यवस्था भी स्थिति चिंताजनक है।

कवर्धा व पत्थलगांव की घटना की हो न्यायिक जांच
भाजपा नेताओं ने कहा कि छत्तीसगढ़ में गांजे की तस्करी लगातार बढ़ रही है। उन्होंने गांजा तस्करी के साथ ही शराब तस्करी का आंकड़ा पेश करते हुए कहा कि कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं की मिलीभगत से अवैध नशे का कारोबार चल रहा है। शुरू से ही यह कहा जाता रहा है कि कांग्रेस रेत, जमीन व शराब माफियों के इशारों पर काम कर रही है।

वहींअब गांजा तस्करों के साथ भी मिलीभगत सामने आने लगी है। कवर्धा मामले में भाजपा नेताओं ने राजनीति के चलते धार्मिक उन्माद फैलाने का आरोप लगाया है। साथ ही पत्थलगांव में हुई घटना को लेकर सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कवर्धा और पत्थलगांव मामलों की न्यायिक जांच की मांग की है। इसके साथ ही मृतक के परिजन को 1 करोड़ की मुआवजा राशि तथा घायलों को 50 लाख का मुआवजा राशि देने की मांग भी की है।

खबरें और भी हैं...