रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर ठगी:भरोसा दिलाने दिखाया फर्जी नियुक्ति पत्र, फिर पिता के साथ मिलकर दोस्त से ठगे 4.5 लाख; गिरफ्तार

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल लाइन थाना पुलिस इस मामले में जांच कर रही है। - Dainik Bhaskar
सिविल लाइन थाना पुलिस इस मामले में जांच कर रही है।

बिलासपुर में युवक को रेलवे में नौकरी लगाने का झांसा देकर साढ़े 4 लाख रुपये की ठगी कर ली गई। उसे झांसा देने के लिए आरोपी ने अपने खुद की नौकरी का फर्जी नियुक्ति पत्र तैयार कर लिया। ताकि वह अपने दोस्त को भरोसा दिला सके। पुलिस ने मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी पिता अभी भी फरार है। सिविल लाइन क्षेत्र के मगरपारा निवासी जयंत मलिक व कुलदीप पाटिल आपस में दोस्त थे। कुलदीप के पिता धुवराव पाटिल गवर्नमेंट जॉब में थे। इस बीच 62 साल की सेवा अवधि पूरी होने के बाद वे रिटायर हो गए। जयंत RTO आफिस में प्राइवेट कम्प्यूटर ऑपरेटर है। कुलदीप भी वीआर प्लाजा स्थित एक दुकान में कम्प्यूटर ऑपरेटर था। करीब डेढ़ साल पहले कुलदीप ने जयंत को अपनी रेलवे में नौकरी लगने का नियुक्ति पत्र दिखाया। इस दौरान कुलदीप ने उसे भी रेलवे में नौकरी लगाने का दावा किया।

उसने बताया कि रेलवे में अफसरों से उसकी पहचान है। कुलदीप ने इस षडयंत्र में अपने पिता धुवराव पाटिल को भी शामिल कर लिया और जयंत को भरोसा दिलाने के हामी भरवाया। जयंत उसकी बातों में आ गया। नौकरी के लिए कुलदीप ने 4,35000 में सौदा किया। जयंत भी नौकरी पाने की आस में उसे रकम दे दिया। रकम देने के बाद जयंत को उसके दोस्त कुलदीप ने शीघ्र ही नौकरी मिल जाने व नियुक्ति आदेश जारी करने का दावा किया। लेकिन, इस तरह से कई महीने बीते गए। जब नौकरी नहीं मिली तो वह रुपये वापस मांगने लगा। इस पर उसने रुपये देने के लिए आनाकानी करने लगा। तब बीते फरवरी महीने में उसने पुलिस से शिकायत कर दी। पुलिस ने जांच के बाद पुलिस ने इस मामले में कुलदीप व उसके पिता ध्रुवराव के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर लिया। इस मामले में पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही थी। लेकिन, दो फरार चल रहे थे।
पुलिस का बढ़ा दबाव तो कोर्ट में किया सरेंडर
सिविल थाने के ASI अवधेश सिंह ने बताया कि पुलिस कुलदीप के घर में लगातार दबिश दे रही थी। लेकिन, वह फरार मिल रहा था। इस बीच उसके जरहाभाठा ओमनगर में छिपने की खबर मिली थी। पुलिस की लगातार दबाव के चलते कुलदीप शुक्रवार को कोर्ट पहुंचा और सरेंडर किया। इसकी खबर मिलते ही पुलिस कोर्ट पहुंच गई।
एक दिन के लिए मांगा पुलिस रिमांड
पुलिस ने आरोपी कुलदीप को कोर्ट में ही गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान उसे कोर्ट में पेश करने के साथ ही धोखाधड़ी के प्रकरण में पूछताछ करने के साथ ही फर्जी दस्तावेज जुटाने व रकम बरामद करने के लिए पुलिस रिमांड पर देने के लिए कोर्ट से आग्रह किया। इस पर कोर्ट ने आरोपी को एक दिन के लिए पुलिस रिमांड पर दिया है। उसे शनिवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...