पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फैसला:परिवार न्यायालय प्रक्रिया का पालन किए बिना गिरफ्तारी वारंट जारी नहीं कर सकता- हाईकोर्ट

बिलासपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भरण-पोषण की वसूली के लिए चल व अचल संपत्ति की कुर्की वारंट जारी करना चाहिए

पारिवारिक मामले में भरण-पोषण का बकाया राशि नहीं देने पर परिवार न्यायालय द्वारा जारी गिरफ्तारी वारंट को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी। इस पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि प्रक्रिया का पालन किए बिना कोई भी परिवार न्यायालय सीधे गिरफ्तारी वारंट जारी नहीं कर सकते। मामले की सुनवाई जस्टिस संजय के. अग्रवाल की एकलपीठ में हुई। कवर्धा के जगदंबा त्रिवेदी ने अधिवक्ता संघर्ष पांडेय के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका दायर की। इसमें बताया कि उनकी शादी नेहा त्रिवेदी के साथ हुई थी। शादी के बाद पारिवारिक विवाद पर 2018 में उनकी पत्नी ने मेंटेनेंस के लिए परिवार न्यायालय बिलासपुर में मामला प्रस्तुत की। कोर्ट ने जुलाई 2018 में नोटिस जारी की। इसी दौरान कोर्ट ने एक्सपार्टी आदेश करते हुए 22 नवंबर 2018 को जारी आदेश में 7 हजार रुपए महीने भरण-पोषण भत्ता देने का आदेश दिया। इसी बीच याचिकाकर्ता खिलाफ 38 हजार रुपए की वसूली के लिए 9 मई 2019 को गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया। इस आदेश को उन्होंने हाईकोर्ट में चुनौती दी। अपनी याचिका में यह भी बताया कि जिस समय यह आदेश पारित किया गया उस समय वह गंभीर रूप से बीमार चल रहे थे। मामले को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट को निरस्त कर दिया। साथ ही आदेश दिया कि दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 125 (3) के अधीन भरण - पोषण के बकाया की वसूली के लिए सबसे पहले चल व अचल संपत्ति की कुर्की का वारंट जारी किया जाना चाहिए। बकाया राशि के भुगतान के लिए विक्रय की कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए। इसके बाद भी यदि भरण-पोषण की राशि शेष रह जाए, केवल ऐसी स्थिति में कारावास का दंडादेश पारित किया जाएगा। साथ ही कोर्ट ने याचिकाकर्ता को छूट दिया कि वे परिवार न्यायालय में एकतरफा आदेश के खिलाफ आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें