सड़क निर्माण का विवाद:तोरवा के कांग्रेस पार्षद और रेलवे इंजीनियर के बीच मारपीट, इंजीनियर पर एफआईआर दर्ज

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ थाने में की शिकायत

तोरवा क्षेत्र में सड़क निर्माण के विवाद पर कांग्रेस पार्षद परदेशी राज व रेलवे इंजीनियर के बीच मारपीट हुई। घटना के बाद दोनों पक्ष थाने पहुंचे और एक दूसरे के खिलाफ शिकायत की। पार्षद के पक्ष में महापौर व निगम सभापति भी थाने आए। पुलिस ने इंजीनियर के खिलाफ जुर्म दर्ज कर लिया है, जबकि इंजीनियर की शिकायत पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई है।

परदेशी राज तोरवा क्षेत्र के कांग्रेस पार्षद हैं। इन दिनों कृष्णा नगर में नगर निगम सड़क निर्माण करवा रही है। यहां पर रेलवे इंजीनियर कौशल सिन्हा की जमीन है। वह पार्षछ से विवाद करने लगा। गाली गलौज की । मना करने पर उसने हाथापाई शुरू कर दी। आसपास के लोगों ने आकर बीच बचाव किया। इसके बाद पार्षद ने तोरवा थाने आकर पुलिस से शिकायत की। इसके आधार पर पुलिस ने आरोपी इंजीनियर के खिलाफ जुर्म दर्ज किया। पुलिस ने पार्षद का जिला अस्पताल में मुलाहिजा कराया। इसी दौरान रेलवे इंजीनियर कौशल सिंह भी अपनी पत्नी के साथ थाने आया।

वह पार्षद परदेशी पर गाली गलौज, मारपीट व हमला करने का आरोप लगाया। उसने पुलिस से शिकायत की। पुलिस ने इंजीनियर का भी मुलाहिजा कराया गया है। इधर कांग्रेस पार्षद के साथ हुई मारपीट की की घटना की जानकारी मिलते ही महापौर रामशरण यादव जिला अस्पताल पहले उनसे मिलने जिला अस्पताल गए फिर तोरवा थाने पहुंचे। इसके बाद नगर निगम सभापति शेख नजरुदीन, पार्षद राजेश शुक्ला , अजय यादव व अन्य कांग्रेस नेता भी थाने पहुंच गए। महापौर रामशरण यादव ने निर्माण कार्य में लगे पार्षद पर हमला करने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। उन्होंने अन्य धाराओं के साथ सरकारी काम में बाधा डालने की धारा जोड़ने के लिए कहा। इस बीच महापौर ने एसपी दीपक झा से फोन पर चर्चा की।

इधर इंजीनियर कौशल सिन्हा व उनकी पत्नी पार्वती भी तोरवा थाना पहुंचे। दोनों का कहना था कि देवरीखुर्द में सड़क निर्माण के दौरान पार्षद परदेसी राज ने उनके साथ बिना वजह का विवाद किया। उनपर बेजा कब्जा जमाकर रहने का आरोप लगाया। दंपती ने पार्षद पर गाली गलौज व मारपीट करने आरोप लगाया। कहा नगर निगम चुनाव के दौरान उन्होंने भाजपा के लिए खुलकर काम किया था। इसी के चलते कांग्रेस पार्षद उनसे दुर्भावना रखते हैं। खुन्नस निकालने के लिए उसने पहले मारपीट की फिर थाने आकर अपने पहुंच के बल पर उनके खिलाफ झूठी रिपोर्ट दर्ज करा दी। पुलिस का कहना है कि वे शिकयत की जांच करेंगे।

खबरें और भी हैं...