जंगल जलते रहे, वन अमला पहुंचा ही नहीं:बिलासपुर शहर से लगे फदहाखार के जंगलों में देर रात लगी आग, झाड़ियां-पेड़ जले;नुकसान का आंकलन नहीं

बिलासपुरएक महीने पहले
दूर से दिखाई दे रही थी आग की तेज लपटें

बिलासपुर में सोमवार रात फदहाखार के जंगल में भीषण आग लग गई। इसकी चपेट में आकर तमाम झाड़ियां और पेड़ जल गए हैं। लोगों ने इसकी सूचना पुलिस और नगर निगम को दी। करीब डेढ़ घंटे बाद बोदरी नगर पंचायत की दमकल मौके पर पहुंची और आग बुझाने का प्रयास शुरू हुआ। स्थानीय महिलाओं की मदद से देर रात आग पर काबू पाया जा सका। इस पूरी घटना के बाद भी अभी तक वन विभाग का अमला मौके पर नहीं पहुंचा है। आग लगने का VIDE0 भी सामने आया है।

नगर निगम के सिरगिट्‌टी के वार्ड क्रमांक 12 फदहाखार में जंगल है। इस वन भूमि के आसपास 100 से अधिक परिवार भी रहते हैं। सोमवार शाम आंधी-तूफान आने के बाद जंगल की झाड़ियों में आग की लपटें दिखाई दी। देखते ही देखते आग तेजी से फैलने लगी और भीषण रूप ले लिया। इसे देखकर आसपास के लोग अपने घरों तक आग न पहुंचे, इसके लिए बुझाने की कोशिश शुरू कर दी। इस दौरान उन्होंने जंगल में आग लगने की सूचना पुलिस के साथ ही नगर निगम के अफसरों को भी दी। आग लगने की सूचना के करीब डेढ़ घंटे बाद नगर पंचायत बोदरी की दमकल वहां पहुंची और आग बुझाने के लिए मशक्कत करने लगे।

जंगल के बीच झाड़ियों में लगी थी आग
जंगल के बीच झाड़ियों में लगी थी आग

तिफरा-सिरगिट्‌टी जोन की दमकल खराब
स्थानीय लोगों ने आग लगने की सूचना जोन के अफसरों को दी। लेकिन, पूर्व के नगर पालिका तिफरा और नगर पंचायत सिरगिट्‌टी की दमकल खराब पड़ी है। इसके चलते नगर निगम के अफसरों ने नगर सेना के साथ ही नगर पंचायत बोदरी से दमकल मंगाया। इसके चलते आग को काबू करने में काफी विलंब हो गया। बताया जा रहा है कि समय रहते दमकल पहुंच जाती, तो आग को पहले ही बुझा लिया जाता।

गायब रहा वन विभाग का अमला
फदहाखार का जंगल वन विभाग का है, जिसके आसपास सालों से लोग कब्जा कर रह रहे हैं। मौके पर पहुंची सिरगिट्‌टी पुलिस ने वन विभाग के अफसरों को भी आग लगने की जानकारी दी। लेकिन, सूचना के बाद भी वन विभाग का अमला मौके पर नहीं पहुंचा था।

आसपास के लोगों के साथ ही महिलाएं आग बुझाने के लिए मशक्कत करती रहीं
आसपास के लोगों के साथ ही महिलाएं आग बुझाने के लिए मशक्कत करती रहीं

तो मकानों को भी चपेट में ले लेती आग
बताया जा रहा है कि सूखे पेड़ और झाड़ियों में लगी आग तेजी से फैल रही थी। आंधी बंद होने के बाद आग की लपटें लोगों के मकान तक नहीं पहुंच पाई। आग बुझाने में देरी होती या हवा तेज होती तो आसपास के लोगों के मकानों को भी आग चपेट में ले सकती थी। यही वजह है कि डर के कारण महिलाएं आग बुझाने के लिए मशक्कत करती रहीं।

देर रात तक आग बुझाते रहे दमकल कर्मी

TI सागर पाठक ने बताया कि आग लगने की सूचना के बाद टीम मौके पर पहुंच गई थी। चूंकि, बांस के जंगल में आग लगी थी। इसके चलते आग बुझाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। देर रात तक दमकल कर्मी आग बुझाते रहे। दरअसल, जंगल में लगी आग एक जगह से बुझाने के बाद दूसरी जगह पर लग जाती थी। जंगल के बीच तक दमकल नहीं पहुंच पा रही थी। इसके चलते काफी देर से आग बुझाई जा सकी। उन्होंने बताया कि आग लगने का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। फिर भी यह माना जा रहा है कि हवा में बांस के आपस में रगड़ाने की वजह से आग लगी होगी।

खबरें और भी हैं...