पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वारदात:पहले छोटे की हत्या कर जेल गया, छूटकर आया तो बड़े भाई को मार डाला

बिलासपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पहले छोटे भाई की हत्या कर जेल गया। छूटकर आया तो अपने पिता व भाई के साथ मिलकर उसके बड़े भाई को मारा डाला। घटना हिर्री थाना क्षेत्र की है। ग्राम उड़ेला निवासी विक्रम मरावी पिता फूलसिंह मरावी ने 14-15 साल अपने ही गांव के सहुरा यादव के छोटे भाई की हत्या की थी। इस केस में वह जेल गया। हाल में ही लौटकर आया था। पुरानी रंजिश के चलते उसने सोमवार को अपने पिता फूल सिंह मरावी व भाई सरोज के साथ मिलकर सहुरा यादव की हत्या कर दी। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया है। पुरानी रंजिश के चलते उन्होंने इस वारदात को अंजाम दिया है। घटना के पहले सहुरा ने उसके साथ गाली गलौज किया था। 
सरपंच के घर जाकर कहा-हमने सहुरा को मार डाला
दूजराम कुर्रे गांव का पंच है और उसकी पत्नी सरपंच है। सोमवार की रात 9.30 बजे घर पर खाना खाकर सो रहा था। इसी दौरान फूलसिंह मरावी व सरोज मरावी उनके घर गए। सरपंच ने उन्हें बिठाया और पीने के लिए पानी दिया। आने का कारण पूछा तो फूलसिंह ने बताया सहुरा यादव उसके घर के पास आकर गाली गलौज कर रहा था इसलिए उसकी हत्या कर दी। दूजराम ने पूछा कि वह जिंदा है या मर गया तो बताया कि वह मर गया है। कौन मारा है पूछने पर फूलसिंह ने कहा कि उसने इस वारदात को अपने बेटे विक्रम व सरोज मरावी के साथ मिलकर अंजाम दिया था। दूजराम ने कोटवार राजेश को फोन किया तो उसने फोन रिसीव नहीं किया फिर उन्होंने सुंदरपाल को कॉल किया और घटना की जानकारी दी। कुछ देर बाद सुंदरपाल, लक्ष्मीचंद, सतीश यादव और हेतराम निर्मलकर उनके घर आए और उन्होंने मिलकर फूलसिंह, सरोज, विक्रम से पूछताछ की और उन्होंने गुनाह कबूल किया। फूलसिंह ने बताया पीपल पेड़ के पास जगदीश यादव के घर के पास सहुरा की लाश पड़ी है। सभी वहां गए तो सहुरा यादव मरा पड़ा था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें