पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम ने करवट ली:लगातार दूसरे साल 10 वर्षों की औसत वर्षा से ज्यादा बारिश, अब तक 147 मिमी

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2020 से भी ज्यादा बरस रहा पानी, खेती-किसानी के लिए फायदेमंद, संभाग के कुछ स्थानों पर आज भी बारिश होने की संभावना

यह लगातार दूसरे साल है जब 18 जून की स्थिति में जिले में 10 वर्षों की औसत वर्षा से ज्यादा बारिश हो चुकी है। दस वर्षों की औसत वर्षा 52 मिमी है जबकि अब तक पांच तहसीलों को मिलाकर 146.9 मिमी वर्षा हो चुकी है। इसमें सबसे ज्यादा बारिश तखतपुर तहसील में हुई है। पिछले 18 जून तक 116.9 मिमी बारिश हुई थी। शुक्रवार की शाम को भी झमाझम बारिश हुई। जून माह के 18 दिन गुजर चुके हैं और अभी माह खत्म होने में 12 दिन बाकी है।

ऐसे में इस बार बारिश अच्छी होने से खेती-किसानी की शुरुआत भी हो चुकी है। जिले में पांच तहसील बिलासपुर, बिल्हा, मस्तूरी, तखतपुर और कोटा हैं। दैनिक भास्कर ने बिलासपुर जिले में विगत दस वर्षों में हुई औसत वर्षा से जब इस साल हुई अब तक की बारिश से तुलना की तो मालुम हुआ कि 94.9 मिमी अधिक वर्षा हो चुकी है। यह खेती किसानी के लिहाज से अच्छा संकेत है।

इस बार अच्छी पैदावार की उम्मीद इसलिए भी है क्योंकि मानसून समय से पहले छत्तीसगढ़ पहुंच चुका है और इसके प्रभाव से अच्छी बारिश हो रही है। 2019 में 22 जून को मानसून के असर से अच्छी बारिश हुई थी जबकि 2020 में 12 जून को मानसून आया और इस बार 10 जून को ही मानसून के दस्तक के बाद पूरा प्रदेश बारिश से सराबोर हो रहा है। गुरुवार को जिले में 10.5 मिमी औसत वर्षा हुई जबकि शुक्रवार को भी शहर में शाम को तेज बारिश होती रही।

चक्रवाती घेरा पश्चिम बंगाल के पास
मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि चक्रीय चक्रवाती घेरा गंगेटिक पश्चिम बंगाल के पास है। इसके प्रभाव से एक निम्न दाब का क्षेत्र दक्षिण पश्चिम बिहार और उससे लगे दक्षिण पूर्व उत्तर प्रदेश के ऊपर बना है। ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा मध्य ट्रोपोस्फेरिक लेवल तक स्थित है। एक द्रोणिका पश्चिम राजस्थान से उत्तर पूर्व बंगाल की खाड़ी तक दक्षिण हरियाणा, और गंगेटिक पश्चिम बंगाल होते हुए 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक स्थित है। 19 जून को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने और वर्षा का मुख्य क्षेत्र बिलासपुर संभाग होने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...