रमन बोले-PM ने बारदाने की दुकान खोली है क्या?:कहा-15 साल में बारदाने की कमी नहीं हुई, ये एक-दो साल में ही हांफने लगे

बिलासपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिलासपुर में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने बारदाने को लेकर राज्य सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा तीन साल आते-आते सरकार के चेहरे से नकाब उतरने लगा है। यह सरकार रोजगार तो देने से रही। बल्कि, अब रोजगार छीनने का काम कर रही है। रेडी टू ईट का काम हरियाणा के शराब ठेकेदार को देने जा रही है। अब बारदानों के लिए नई समस्या होने लगी है।

रमन सिंह ने कहा कि यह अजीब सरकार है, किसी भी बात के लिए केंद्र सरकार पर आरोप लगा देती है। कोई भी बात हो प्रधानमंत्री को जवाबदार बता देती है। 15 साल CM रहते कभी बारदाने की समस्या नहीं हुई। एक-दो साल में सरकार हांफने लगी है। अब तो किसानों से बारदाने मंगा रही है। उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बारदाने की दुकान खोले हैं क्या?

सरकार पर कमीशन लेने का आरोप

सोमवार को एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने आए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ भवन में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने 15 साल में महिला स्व.सहायता समूह को आंगनबाड़ी केंद्रों में रेडी टू ईट वितरण का काम दिया था। ताकि, उन्हें रोजगार मुहैया कराया जा सके। लेकिन, प्रदेश की कांग्रेस व भूपेश बघेल की सरकार महिला समूहों से काम छीन कर हरियाणा के शराब ठेकेदार को देने जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि 40 करोड़ के ठेका कमीशन के लिए यह निर्णय लिया गया है। इससे हजारों महिलाएं बेरोजगार हो जाएंगी।

6 महीने पहले करने पड़ती है तैयारी

उन्होंने कहा कि बारदाने की समस्या से निपटना सरकार का काम है। धान खरीदी के लिए छह महीने पहले तैयारी करनी पड़ती है। बारदानों का निर्माण पश्चिम बंगाल में होता है। इसके लिए जूट कमिश्नर को एडवांस राशि के साथ ऑर्डर देना पड़ता है। यहां सरकार जूट कमिश्नर को पैसा ही नहीं दे रही है, तो बारदाना कहां से आए। उल्टा सरकार इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहरा रही है। उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि पंजाब व हरियाणा जैसे राज्यों में बारदानों की समस्या क्यों नहीं हो रही है।

बिलासपुर में पूर्व मुख्यमंत्री का स्वागत करते भाजपा नेता व कार्यकर्ता
बिलासपुर में पूर्व मुख्यमंत्री का स्वागत करते भाजपा नेता व कार्यकर्ता

प्रदेश के गरीबों का नुकसान
पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि PM आवास से छत्तीसगढ़ को राज्य सरकार ने अलग कर दिया है, जो छत्तीसगढ़ के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इससे राज्य को 11 हजार करोड़ का नुकसान हुआ है, जो राज्य के गरीबों का नुकसान है। इस मामले में केंद्रीय सचिव का पत्र आना गंभीर बात है। यह निर्णय लेकर भूपेश बघेल ने गरीबों को मकान से वंचित करने का काम किया है।

नगरीय निकाय में भाजपा की जीत तय
नगरी निकाय के चुनाव में जीत का दावा करते हुए रमन सिंह ने कहा कि बीजेपी की शुरुआती तैयारी चल रही है। भाजपा के 15 साल के काम और तीन साल की भूपेश सरकार के कार्यकाल को हम जनता के बीच लेकर जाएंगे। सरकार के गलत निर्णय के खिलाफ जनता वोट कर सबक सिखाएगी। उसना नहीं खरीदने के केंद्र के निर्णय पर पूर्व सीएम ने कहा कि उसना कोई लेता नहीं तो केंद्र सरकार खरीद कर क्या करेगी।

कांग्रेस के जनजागरण अभियान पर भी कसा तंज
पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांग्रेस के जनजागरण अभियान को लेकर भी तंज कसा। उन्होंने कहा कि महंगाई कोई मुद्दा नहीं है। कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं है। इसलिए गली-गली घूम रही है। उन्होंने CM भूपेश बघेल पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बाहर घूम-घूमकर इनाम लेने से कुछ नहीं होता।

खबरें और भी हैं...