दरिदंगी / श्रीराम केयर अस्पताल के आईसीयू में छात्रा से गैंगरेप की शिकायत, पीड़िता वेंटीलेटर पर

X

  • दो वार्ड बॉय पर आरोप, पिता को लिखकर बताया

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

बिलासपुर. श्रीराम केयर में भर्ती बीमार इंजीनियरिंग छात्रा के साथ दो वार्ड बॉय पर आईसीयू में दुष्कर्म करने का आरोप है। गैंगरेप की शिकायत पीड़ित युवती ने अपने पिता को कागज में लिखकर दी तो उन्होंने थाने में शिकायत की। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। घटना 21 मई की रात की है। पिता ने अस्पताल प्रबंधन पर मामले को दबाने व दबाव बनाने का आरोप लगाया है। नेहरू नगर स्थित अस्पताल श्री राम केयर में आईसीयू में यह घटना हुई। पीड़िता शहर से लगे एक गांव की है। 18 साल की युवती इंजीनियरिंग प्रथम वर्ष की छात्रा है। 18 मई की मां ने बेटी को चाय बनाकर दिया। चाय पीने के बाद वह सोने चली गयी। कुछ ही देर में उसके मुंह से झाग निकलते देखा गया।  युवती ने बताया वह दवाई खाई है और रिएक्शन हो गया है। युवती को लेकर पिता सिम्स पहुंचा। यहां से उसे दूसरे अस्पताल भेज दिया गया। मजबूर पिता फिर उसे लेकर अमेरी रोड स्थित श्रीराम केयल अस्पताल आ गया। यहां आईसीयू में उसका इलाज चल रहा था। बच्ची यहां स्वस्थ्य हो रही थी। उसके चेहरे पर आक्सीजन का मास्क लगा था। पिता के अनुसार  22 मई की सुबह उसकी बेटी ने इशारे में बताया पर पिता को समझ में नहीं आया। इसके बाद वह मास्क के अंदर से ही पेन व कागज मांगा। पिता के अनुसार उसकी बेटी ने लिखा कि दो वार्ड ब्वाय ने दुष्कर्म किया इसी बीच बच्ची को कई बार इंजेक्शन देकर बेहोश किया गया। बच्ची होश में आया तो अपने साथ हुए घटना की जानकारी दी। उसे बहुत तकलीफ है। बच्ची के पिता ने सिविल लाइन थाना को सूचना दिया। टीआई परिवेश तिवारी श्रीराम केयर पहुंचे। मामले की जांच की जा रही है। पीड़िता के पिता के अनुसार प्रबंधन मामले को दबाने का दबाव बना रहा है। टीआई परिवेश तिवारी का कहना है कि पिता ने दुष्कर्म की शिकायत की है। युवती वेंटीलेटर में है। उसका बयान होना बाकी है। पुलिस ने निर्देश दिया है कि आईसीयू में रात को बच्ची की मां भी रहेगी और बाहर एक पुलिस जवान तैनात रहेगा। बच्ची के पिता ने पुलिस से कहा है कि दोनों वार्ड ब्वाय बच्ची की हत्या न कर दें। श्रीराम केयर के डाॅक्टर और संचालक अमित सोनी ने फोन रिसीव नहीं किया।
पहले इशारे से बताने की कोशिश
छात्रा ने अपने पिता को इशारे से घटना की जानकारी दी। पिता कुछ समझ नहीं पाए फिर उसने पेन कागज लाने के लिए कहा और लिखकर दी तो पिता के होश उड़ गए। बाद में युवती 
जब होश में आई तो अपनी लड़खड़ाते जबान से सबकुछ साफ साफ कह दिया। 
अस्पताल में जान को खतरे की शिकायत
पीड़िता के पिता ने पुलिस से कहा उसकी बेटी का जिस तरह से इलाज किया जा रहा है उसे डर लग रहा है। उसकी बेटी बार बार बेहोश हो रही है। वहां उसकी जान को खतरा है।
इलाज के लिए पहले सिम्स गए थे, यहां से भगा दिया था
गरीब माता पिता छात्रा को लेकर इलाज के लिए पहले सिम्स गए थे। यहां उसे भर्ती नहीं किया गया। उसे प्राइवेट अस्पताल का रास्ता दिखाया गया। मजबूरी में परिजन को उसे लेकर प्राइवेट अस्पताल जाना पड़ा।
आरोपी वार्ड बॉय स्पताल में ही करते रहे ड्यूटी
जिन दोनों वार्ड ब्वाय पर दुष्कर्म का आरोप लगा है,दोनों अभी भी उसी अस्पताल में मौजूद हैं और ड्यूटी कर रहे हैं। शिकायत के बाद भी उन्हें हटाया नहीं गया है। इससे पीड़िता व परिजनों पर खतरा है। उन्हें हटाया नहीं गया है।
पांच घंटे तक पुलिस बैठी रही अस्पताल में
घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस महकमें हड़कंप मच गया। सिविल लाइन पुलिस अस्पताल पहुंची और पांच घटे तक वहां मौजूद रही। एसपी ने टीआई ने इस मामलें की पूरी जानकारी मांगी है।
देर रात टीआई ने कहा-एफआईआर होगी
देर रात टीआई परिवेश तिवारी ने कहा कि वे इस मामले में पिता की शिकायत पर एफआईआर करेंगे। उन्होंने कहा कि चूंकि युवती का बयान नहीं हुआ है इसलिए फिलहाल आरोपियों का नाम अज्ञात रहेगा। बयान होने के बाद नाम जोड़ा जाएगा।
दवा नहीं जहर खाई है-पुलिस, अस्पताल प्रबंधन ने नहीं दी सूचना : सिविल लाइन टीआई परिवेश तिवारी के अनुसार छात्रा ने घर में जहर खाया है। दवा खाने की बात गलत है। इधर अस्पताल प्रबंधन ने जहर खाने का इलाज तो शुरू किया पर पुलिस को सूचना नहीं दी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना