पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिलासपुर प्रवास:बिलासपुर के विकास के लिए 24 घंटे तत्पर है सरकार: बघेल

बिलासपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शिलान्यास - 100 करोड़ की लागत के दो बैराजों का
  • लोकार्पण - 6.59 करोड़ केे नवीन विश्राम भवन का
  • नामकरण - 8 करोड़ की लागत से बने स्मार्ट रोड का
  • उद्घाटन - 93 लाख की लागत से बने तारबाहर स्कूल का

93 लाख की लागत से बने स्वामी आत्मानंद शासकीय अंग्रेजी माध्यमिक स्कूल तारबाहर का मुख्यमंत्री ने उद्घाटन किया। इसके बाद लैब, लाइब्रेरी और स्मार्ट क्लास रूम का निरीक्षण किया। लाइब्रेरी के विजिटर बुक में लिखा कि स्कूल आधुनिक रूप से सुव्यवस्थित है। बच्चों व शाला के भविष्य की कामना करता हूं। स्मार्ट क्लास रूम में बैठकर लेक्चर सुना। साथ ही शिक्षकों से कहा कि संसाधन जुटाना शासन का कार्य है, जो कर रहा है, लेकिन उससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण छात्रों का विकास करना है। जो शिक्षक ही कर सकेंगे। छात्रों ने अंग्रेजी धुन की प्रस्तुति दी। मुख्यमंत्री का स्वागत एनसीसी के कैडेट व स्काउट-गाइड ने किया। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर, संयुक्त कलेक्टर अंशिका पाण्डेय, डीईओ अशोक भार्गव, संदीप चोपड़े, अखिलेश मेहता को बधाई दी। बच्चों व शिक्षकों के साथ फोटो खिंचवाया। मुख्यमंत्री सोमवार को सुबह 11 बजे सेलर गोठान का निरीक्षण करने पहुंचेंगे। सेलर गोठान में महिला स्व सहायता समूह नेपियर घास का उत्पादन कर उससे आय अर्जित कर रही हैं। जिले में बनाए गए सभी गोठानों में सेलर को सबसे अच्छा गोठान बनाने की कोशिश की जा रही है।

डिजिटल लाइब्रेरी और इंक्यूबेशन सेंटर को सीएम ने सराहा
10 करोड़ 97 लाख रुपए की लागतवाली शहर की पहली सेंट्रल लाइब्रेरी के लोकार्पण के बाद मुख्यमंत्री ने डिजिटल लाइब्रेरी और इंक्यूबेशन सेंटर का निरीक्षण किया और उन्होंने निर्माण कार्य समेत पूरी योजना के क्रियान्वयन के लिए स्मार्ट सिटी लिमिटेड के अधिकारियों की सराहना की। इससे पूर्व इंक्यूबेशन सेंटर में बैठकर मुख्यमंत्री बघेल ने पूरी योजना की जानकारी ली। उल्लेखनीय है कि प्रदेश की पहली डिजिटल लाइब्रेरी है, जहां इंक्यूबेशन सेंटर में युवाओं के नए इनोवेशन को प्लेटफार्म मिलेगा तो वहीं डिजिटल लाइब्रेरी से कैरियर को संवारने में मदद मिलेगी।

ढाई लाख की पुस्तकें दान की : श्री बुक डिपो के संचालक पीयूष गुप्ता एवं नरेंद्र गुप्ता ने अपनी माताजी श्रीबाई गुप्ता की स्मृति में प्रतिष्ठित साहित्यकारों की ढाई लाख रुपए मूल्य की श्रेष्ठ पुस्तकें, विद्यार्थियों के उपयोग में आने वाली विभिन्न विषयों की 1700 पुस्तकें सेंट्रल लाइब्रेरी को दान की। इन्हें श्रीबाई ज्ञान गैलरी में रखा गया है।

समाज प्रमुखों से मुख्यमंत्री ने किया संवाद
सर्किट हाउस में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का विभिन्न समाज प्रमुखों से संवाद हुआ। इस दौरान सिंधी समाज के राष्ट्रीय महामंत्री अमर बजाज ने कहा कि सिंधी समाज को आज भी व्यवसायिक समाज समझा जाता है जबकि युवा पीढ़ी अपनी भूमिका निभाने को तैयार है। उन्होंने मुख्यमंत्री से समाज के लिए एक सीट का प्रतिनिधित्व देने की मांग की। प्रतिनिधिमंडल में अमर बजाज के साथ मनीष लाहौरानी, मोती थावरानी, विष्णु हिरवानी,,समेत समाज के वरिष्ठ लोग शामिल रहे। इसी तरह संयुक्त मसीही संगठन ने मुख्यमंत्री से समाज के लिए भूमि देने की मांग की। इस दौरान समाज के अध्यक्ष जयदीप रॉबिंनसन,डा. रत्नेश कुमार,डा. राजीव पीटर्स, समीर फ्रेंकलीन समेत अन्य लोग शामिल रहे।

नए विश्रामगृह का लोकार्पण हुआ
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सर्किट हाउस में 6 करोड़ 59 लाख रुपए की राशि से बने नए विश्रामगृृह का लोकार्पण किया। इस दौरान उनके साथ प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, नगरीय प्रशासन और विकास मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया मौजूद रहे। विश्राम गृह भवन 2050 वर्गमीटर में बनाया गया है। इस भवन में 7 विश्राम कक्ष सहित कुल 25 कक्ष हैं। यहां 150 व्यक्तियों के बैठने की क्षमता वाला एक सभाकक्ष बनाया गया है। इसके अतिरिक्त भवन में एक सामान्य डायनिंग हॉल, एक स्टोर, दो विद्युत पैनल रूम बनाया गया है। अति महत्वपूर्ण व्यक्तियों के लिये अलग से कक्ष बनाया गया है। लोकार्पण कार्यक्रम में संसदीय सचिव एवं तखतपुर विधायक रश्मि आशीष सिंह ठाकुर, बिलासपुर विधायक शैलेष पांडेय, महापौर रामशरण यादव, कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर, पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल, नगर निगम कमिश्नर प्रभाकर पाण्डेय, अटल श्रीवास्तव, विजय केशरवानी समेत बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

बिलासा एयरपोर्ट नामकरण के लिए हवाई संघर्ष समिति ने माना आभार

बिलासपुर एयरपोर्ट का नाम अब बिलासा एयरपोर्ट होगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की घोषणा का हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति के सदस्यों ने स्वागत किया। इसके साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री से एयरपोर्ट का 4सी केटेगिरी का बनाने के लिए औपचारिक प्रशासनिक अनुमोदन करने एवं सेना से 150 एकड़़ जमीन लेकर देने की मांग की। हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति ने बिलासपुर एयरपोर्ट को शीघ्र 3सी और 4सी श्रेणी का बनाए जाने के फैसले का भी स्वागत किया। उल्लेखनीय है कि बिना सेना से जमीन की वापसी के एयरपोर्ट का रनवे विस्तार नहीं हो सकता और बोइंग तथा एअरबस श्रेणी के विमान संचालित नहीं हो पाएंगे। समिति ने उम्मीद जताई कि प्रारंभ से ही बिलासपुर एयरपोर्ट के विकास के लिए तत्पर रहे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार इन कार्यों को भी शीघ्र ही अंजाम देगी। रविवार को अखंड धरने के 220 वेँ दिन समिति के अशोक भंडारी, सुदीप श्रीवास्तव, बद्री यादव, राघवेंद्र सिंह, मनोज श्रीवास, के. गोरख, मनोज तिवारी आदि समिति के सदस्य उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...