मंकी कैप वाले चोर का VIDEO:बेटे और भतीजे से महिला कराती थी चोरी; कई मकानों को बनाया निशाना, 4 गिरफ्तार

बिलासपुर3 महीने पहले
चोरी की वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है। - Dainik Bhaskar
चोरी की वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है।

बिलासपुर में मंकी कैप वाला चोर, उसके भाई, मां और पड़ोसी को गिरफ्तार किया है। दरअसल, यह गिरोह शहर में चोरी की वारदातों को अंजाम देता था। चोरी की इन घटनाओं का वीडियो भी सामने आया है, जिसमें मंकी कैप पहने युवक नजर आ रहा है। उसके हुलिए के आधार पर पुलिस आरोपी तक पहुंची और गिरोह को पकड़ लिया है। गिरोह की महिला सूने मकानों की रैकी करती थी। फिर उसके बेटे और भतीजा मकान में चोरी करने पहुंच जाते थे। इस गिरोह ने रिहायशी इलाकों में पांच जगहों पर चोरी की थी। घटना चकरभाठा थाना क्षेत्र की है। इस मामले में कुल मिलाकर 4 आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं।

रामावैली निवासी भूपेंद्र बहादूर जांगड़े जांजगीर-चांपा में GST में असिस्टेंट कमिश्नर हैं। बीते 13 मई को वे अपने गृह ग्राम डभरा स्थित छुहीपाली गए थे। इस दौरान उनके सूने मकान में ताला बंद था। दो दिन बाद वे वापस आए, तब ताला टूटा मिला। घर से 15 हजार रुपए कैश, सोने-चांदी के जेवर चोरी हो गए थे। पुलिस इस मामले की जांच कर रही थी। जांच के दौरान पुलिस को CCTV देखा, जिसमें मंकी कैप पहने युवक नजर आ रहा था। इसी आधार पर पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की।

CCTV फुटेज में कैद हुआ था मंकी टोपी पहने चोर का हुलिया
CCTV फुटेज में कैद हुआ था मंकी टोपी पहने चोर का हुलिया

रिहायशी कॉलोनी में लगातार हो रही थी चोरी, पांच मामलों का हुआ खुलासा

रामावैली कॉलोनी के साथ ही चकरभाठा क्षेत्र के जीवन विहार व अन्य रिहायशी कॉलोनी में पिछले एक सप्ताह से लगातार चोरी हो रही थी। चोरों ने सिंचाई विभाग रायगढ़ में पदस्थ सब इंजीनियर श्वेता उपाध्याय के भी मकान को निशाना बनाया था। इन सभी चोरियों में पुलिस को मंकी कैप वाला बदमाश ही नजर आया। CCTV फुटेज र्ब्लर होने के कारण युवक की स्पष्ट पहचान नहीं हो पा रही थी। लिहाजा, पुलिस ने उसके हुलिए के आधार पर युवक की आसपास तलाश की। तब वह पकड़ा गया। गिरोह ने रिहायशी कॉलोनी में पांच मकानों में चोरी की थी।

आरोपियों से 50 हजार रुपए व गहने बरामद किया गया है
आरोपियों से 50 हजार रुपए व गहने बरामद किया गया है

मां करती थी रेकी, फुफेरे भाई के साथ युवक करता था चोरी
TI मनोज नायक ने बताया कि बोदरी निवासी सुरेश धुरी (23 साल) की पहचान होने के बाद उसकी धरपकड़ कर पूछताछ की गई, तब पता चला कि वह अपने फुफेरे भाई आकाश धुरी (19 साल) के साथ मिलकर सूने मकानों में चोरी करता था। उसकी मां वृंदा बाई रामावैली सहित रिहायशी कॉलोनियों में काम करती थी। पड़ोसी महिला सुर्मिला उर्फ चिरैया बाई भी कॉलोनी में काम करने जाती थी। इस दौरान दोनों महिला सूने मकानों की रेकी करते थे। इसके बाद अपने बेटे और भतीजे को भेजकर चोरी कराती थी। आरोपियों के पास से पुलिस ने 50 हजार रुपए के साथ ही सोने के टॉप्स सहित अन्य गहने भी बरामद किया है।

खबरें और भी हैं...