पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी पहल:इनसे सीखें, जागरुकता से 15 गांव कोरोना से बचे हैं; लॉकडाउन में पंचायत प्रतिनिधियों ने की होम डिलिवरी

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इन 15 गांवों में कोरोना का एक भी मरीज नहीं है

जब सभी ओर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं तब जिले के 15 गांव ऐसे हैं जहां के ग्रामीणों ने जागरूकता व अन्य उपायों से खुद को बचाया और सुरक्षित रखा। टीम ने सोशल ग्रुप से ऑनलाइन मीटिंग कर सुरक्षा के कदम उठाएं और शत प्रतिशत वैक्सीनेशन कर कोरोना संक्रमण की संभावनाओं को बेहद कम कर दिया।

जिले के इन 15 गांव में तखतपुर ब्लॉक से 5 और कोटा ब्लॉक से 10 हैं। बिल्हा ब्लॉक के गांव में भोजपुरी, पौंसरी, संबलपुरी, सरवानी और दुर्ग डीह शामिल हैं। इसी तरह से कोटा ब्लॉक से जोगीपुर, कुरदर, लमकेना, मझगवां, मनपहरी, मोहाली, रमदेई, रिंगवार, टाटीधार और तेंदू भाटा शामिल है। इन सभी गांव में अब तक कोरोना संक्रमण से कोई भी मरीज नहीं मिला है। इसके बचाव के लिए शुरू से ही गांव वाले सजग रहे और तय मापदंडों का पालन करते रहे। सबसे बड़ी बात इनमें से तीन चार गांव ऐसे है जिन्होंने कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन को प्राथमिकता दी और गांव में 80 फीसदी से लेकर 100 फीसदी तक अभियान को सफल बनाया।

जानिए वह उपाय जिसे गांव वालों ने आजमाया और वे सुरक्षित हैं

रोज मुनादी की और गांव वालों को जागरूक करते रहे
ग्राम पंचायत जोगीपुर की सरपंच राजकुमारी बिंझवार ने बताया कि बे बचाव के लिए गांव में रोज मुनादी कराते हैं और लोगों को वे तरीके बताते हैं जिससे वह सुरक्षित रहें। मास्क और सेनिटाइजर का वितरण भी किया।घर-घर बांटे हाथ धोने के लिए साबुन : ग्राम पंचायत टाटीधार के लोगों ने सामाजिक दूरी का पालन करते हुए खुद को घरों में बंद कर सुरक्षित रखा। इमरजेंसी में सामान की जरूरत होने पर पंचायत ने घर पहुंच सेवा दी। घर-घर जाकर पंचायत के लोगों ने समझाइश दी और हाथ धोने के लिए साबुन भी बांटे।

सोशल ग्रुप पर टीम बनाई प्लानिंग की, अमल किया
ग्राम पंचायत भोजपुरी के संदीप जायसवाल ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए सोशल ग्रुप पर 22 लोगों की टीम बनाई। उसी से ऑनलाइन मीटिंग होती है और उस पर अमल किया जाता है।

वैक्सीनेशन के लिए वाहन उपलब्ध कराएं, समझाईश दी
​​​​​​​ग्राम पंचायत मनपहरी के ग्रामीण वैक्सीनेशन के लिए तैयार नहीं थे, पंचायत ने उन्हें खुद के खर्च से वाहन उपलब्ध कराया ताकि वे पास के धुमा गांव के सेंटर में जाकर वैक्सीन लगवा सकें। पंचायत ने गांव की साफ सफाई पर विशेष ध्यान दिया।

खबरें और भी हैं...