सीएम के साथ चर्चा:6 मई के बाद नहीं बढ़ाया जाए लॉकडाउन; व्यवसाय चौपट हो जाएगा, राज्य की अर्थव्यवस्था चरमरा जाएगी: केडिया

बिलासपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरीश केडिया। - Dainik Bhaskar
हरीश केडिया।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वर्चुअल मीटिंग के जरिए प्रदेश के प्रमुख औद्योगिक संगठनों के पदाधिकारियों से चर्चा की। मीटिंग में मुख्यमंत्री ने इस बात की सराहना की है कि उद्योगों द्वारा अपनी फैक्ट्री को बंद करके भी कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन सप्लाई किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि उद्योगों में चल रहे संकट की उन्हें जानकारी है। छत्तीसगढ़ लघु एवं सहायक उद्योग संघ के प्रदेशाध्यक्ष हरीश केडिया ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि 6 मई के बाद लॉकडाउन को और आगे नहीं बढ़ाया जाए, अन्यथा श्रमिक बेरोजगार होंगे। व्यवसाय चौपट हो जाएगा। टैक्स तथा राजस्व कमी आने से राज्य की अर्थव्यवस्था भी चरमरा जाएगी। बिलासपुर जिले के लघु उद्योगों में लगभग 6 हजार श्रमिक कार्यरत है। किंतु फैक्ट्री परिसर में ही रहकर ही कार्य करने की शर्त के कारण लगभग आधे 3 हजार मजदूर ही काम कर रहे हैं।

करीब 1 हजार मजदूर 45 वर्ष से अधिक हैं। उद्योगपतियों ने सघन अभियान चलाकर 45 वर्ष के ऊपर के शत-प्रतिशत मजदूरों को वैक्सीन लगवा दिया है। जगह-जगह पर कैंप लगाकर, मोबाइल वैन चलाकर सरकार ने जो टीकाकरण अभियान चलाया है, उसके कारण भी उद्योगपतियों के टीकाकरण अभियान को सफलता मिली है।

केडिया ने मुख्यमंत्री का ध्यान इस ओर आकर्षित किया कि एक वर्ष से अधिक समय से लघु उद्योग गंभीर सकंट में है। कच्चा माल आ नहीं रहा है। सीमेंट, स्टील, प्लास्टिक जैसे कच्चा माल का दाम 50 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ गया है। किंतु उत्पादित वस्तु का दाम बढ़ नहीं पा रहा है।

बेचने की भी समस्या है। ट्रांसपोर्ट की जबरदस्त समस्या है। हम तो एडवांस में पेमेंट देकर अपना कच्चा माल लेते हैं, किंतु हमें भुगतान नहीं मिल रहा है। बैंकों की किस्त, सरकारी टैक्स, श्रमिकों का भुगतान कैसे होगा, इसकी चिंता है। बैठक में उद्योगमंत्री कवासी लखमा, अतिरिक्त मुख्य सचिव सुब्रत साहू, प्रमुख सचिव उद्योग एवं वाणिज्य मनोज कुमार पिंगुआ सहित विभिन्न औद्योगिक संगठन के पदाधिकारियों ने भी अपनी बातें रखी।

खबरें और भी हैं...