सीवीआरयू में अब अप्रेंटिसशिप बेस्ड डिग्री प्रोग्राम:मैकेनिकल व इलेक्टिकल एवं इलेक्ट्रानिक्स के छात्रों को प्रशिक्षण के साथ रोजगार होगा सुनिश्चित

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अब डाॅ. सीवी रामन यूनिवर्सिटी के बीई मैकेनिकल और इलेक्टिकल एवं इलेक्ट्रानिक्स के छात्र अप्रेंटिसशिप डिग्री प्रोग्राम करेंगे और सीधे रोजगार प्राप्त कर सकेंगे। यूनिवर्सिटी ने भारत सरकार के कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय के अंतर्गत स्थापित लॉजिस्टिक सेक्टर स्किल कांउसिल से अनुबंध किया है।

इस अनुबंध के तहत छात्र 7-8वें सेमेस्टर में अप्रेटिशिप बेस्ड डिग्री प्रोग्राम की स्पेशलाइजेशन पढ़ाई को पूरा कर सकेंगे। जानकारी देते हुए कुलपति प्रो. रवि प्रकाश दुबे ने बताया कि नई उच्च शिक्षा नीति को देशभर के शिक्षण संस्थानों में जल्दी ही लागू किया जाना है। इस पर कौशल विकास में विशेष बल दिया गया है। अब सभी पाठ्यक्रमों में कौशल विकास और इसके साथ रोजगार की सुनिश्चितता पर तेजी से कार्य किया जा रहा है। प्रो. दुबे ने बताया कि नई उच्च शिक्षा नीति में यह प्रस्ताव भी है कि छात्रों के लिए अप्रेंटिसशिप बेस्ड डिग्री प्रोग्राम विश्चविद्यालयों में संचालित किया जाना चाहिए। इसलिए डाॅ. सीवीआरयू के स्किल डेवलपमेंट विभाग ने लाॅजिस्टिक सेक्टर स्किल कांउसिल से अनुबंध किया है। इस अनुबंध के तहत सीवीआरयू के बीई के मैकेनिकल इंजीनियरिंग और ईईई के विद्यार्थी के लिए कौशल विकास में सुनहरा अवसर खुल रहा है। अनुबंध के अवसर पर कुलसचिव गौरव शुक्ला, लाॅजिस्टिक सेक्टर स्किल कांउसिल के हेड एजुकेशन इनेशेेटिव प्रो. एस. गणेशन, कौशल विकास विभाग के डायरेक्टर राशिद खान एवं प्रो. विवेक वाजपेई उपस्थित रहे।

अग्रणी कंपनी में रोजगार सुनिश्चित: गौरव
विवि के कुलसचिव गौरव शुक्ला ने बताया कि अनुबंध में इस बात भी सुनिश्चित है कि ऐसे विद्यार्थियों को देश की विख्यात लाॅजिस्टिक संस्थानों जाॅब उपलब्ध कराया जाएगा। छात्रों को 8वें सेमेस्टर में देश के अग्रणी लाॅजिस्टिक संस्थानों में अप्रेंटिसशिप के लिए लाॅजिस्टिक सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा भेजा जाएगा। उन्हें 9 से 12 हजार रुपए प्रतिमाह स्टाईफंड दिया जाएगा। डिग्री कोर्स पूरा करने के बाद रोजगार सुनिश्चित होगा। छात्रों को 3 लाख से लेकर 5 लाख तक का जाॅब मिलेगा।

खबरें और भी हैं...