पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दौरा:बैराज बनने वाली दोनों जगह पर गए मंत्री चौबे पूछा- अरपा में कितना पानी कहां तक रहेगा

बिलासपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अफसरों ने बताया शिवघाट में होगा साफ पानी, पचरी घाट में गंदे पानी का होगा ट्रीटमेंट

जल संसाधन व कृषि मंत्री रविंद्र चौबे बिलासपुर प्रवास के दौरान प्रस्तावित अरपा बैराज के शिवघाट व पचरीघाट का निरीक्षण करने पहुंचे। वे पहले शिवघाट गए जहां उन्होंने प्रस्तावित बैराज स्थल का निरीक्षण किया और जल संसाधन विभाग के अफसरों से जानकारी ली। उन्होंने अफसरों से पूछा कि पानी कहां तक रहेगा तब अफसरों ने कोनी तक पानी रहने की बात कही। उन्होंने यह भी पूछा कि शिवघाट में पानी किस लेवल तक रहेगा। जवाब में अफसरों ने साढ़े तीन मीटर या साढ़े ग्यारह फीट पानी रहने की बात कही। अफसरों से पूछा कि आप लोगों ने क्या सर्वे किया है कि दोनो बैराज के बीच में कितने नाले, कितने सीवेज का पानी आ रहा है। अफसरों ने कहा कि बड़ा नाला कोई नहीं है। कुछ छोटी नाली है। सिर्फ एक जवाली नाला का नाम गिनाया वह भी बैराज के नीचे है। मंत्री ने पूछा कि डाउनस्ट्रीम में जो बैराज बना है उसमें एक और एनीकट बना है जिसमें अफसरों ने बिलासपुर डायवर्सन का नाम गिनाया। तब वहां मौजूद लोगों ने उसमें गंदा पानी आने की बात बताई। शहर विधायक शैलेष पांडे ने दोनो बैराज के बीच की दूरी 2850 मीटर बताकर जलभराव की स्थिति समझाई। तब मंत्री चौबे ने कहा कि हमें मिलकर इस बात पर विचार करना होगा कि किस तरह पानी साफ रखा जाए। उन्होंने यह भी बताया कि मुख्यमंत्री ने अरपा किनारे नाला बनाने की स्वीकृति दे दी है जिसका काम जल्द शुरू होगा। इससे अरपा में वर्ष भर शुद्ध जल का भराव दोनो बैराज में हो सकेगा। उन्होंने पचरीघाट का भी जायजा लिया। इस दौरान विधायक रश्मि सिंह, महापौर रामशरण यादव, सभापति शेख नजीरुद्दीन, अरुण सिंह चौहान आदि मौजूद रहे।

एनीकट की जांच, मंत्री फिर बोले प्रक्रियाधीन
जल संसाधन मंत्री चौबे ने विधायक शैलेष पांडे की मांग पर विधानसभा में अगस्त 2019 में चांटापारा एनीकट की ईएनसी से जांच कराने की घोषणा की थी। इस मसले को छह माह हो चुका है लेकिन जांच का कोई नतीजा अब तक सामने नहीं आया है। इसे लेकर सवाल पूछने पर मंत्री ने प्रक्रियाधीन बताया। पहले भी उन्होंने यही कहा था।

किसानों को लागत समर्थन देने से केंद्र कैसे रोक सकता है: चौबे
कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि पिछले बजट में 5 हजार 700 करोड़ रुपए का राजीव गांधी किसान न्याय योजना के लिए बजट में लाया ताकि किसानों को प्रति क्विंटल 2500 रुपए मिल सके। हम केंद्र से आग्रह कर रहे हैं कि ये रकम देने की अनुमति दी जाए। केंद्र सरकार का कहना है कि पिछली बार समर्थन मूल्य में 1815 रुपए इस बार 1867 रुपए है। इससे एक रुपए भी अधिक नहीं दिया जाना चाहिए। यदि देंगे ताे चावल नहीं लेंगे। हम अपने बजट से किसानों को रुपए दे रहे हैं, उसमें केंद्र सरकार क्यों आपत्ति कर रही है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना बोनस के रूप में नहीं है। यह इनपुट सपोर्ट यानी लागत समर्थन के रूप में हैं। यदि बोनस देते तो प्रति क्विंटल 2500 रुपए हिसाब लगा लेते। हम गन्ना व मक्का में भी दे रहे हैं। यह किसी भी राज्य में नहीं मिल रहा है। हम दे रहे हैं तो केंद्र कैसे हमे रोक सकती है। एक सवाल के जवाब में कृषि मंत्री ने कहा केंद्र सरकार ने 20 लाख करोड़ का पैकेज घोषित किया लेकिन 20 नया पैसा भी नहीं मिला। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ एक सांसद ने खालिस्तान के आंदोलन से किसानों के आंदोलन को जोड़ा था। वहीं केंद्रीय मंत्रियों ने भी इसकी तुलना आतंकवादी आंदोलन से की थी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने यह साबित किया कि किसानों का आंदोलन वास्तविक आंदोलन था। प्रधानमंत्री से मांग करते हैं कि ऐसे नेता व मंत्री जिन्होंने आतंकवादी आंदोलन कहा था, को मंत्री मंडल से बर्खास्त किया जाना चाहिए। एक सवाल के जवाब में कहा कि मुख्यमंत्री की प्रधानमंत्री से बात हुई है। हम भरोसा कर सकते हैं कि केंद्र हमारा पूरा चावल खरीदेगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser