पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मनमानी:नगर निगम प्रयोगशाला बना, जुगाड़ लगाकर दागी अफसर यहां करा रहे लगातार पोस्टिंग

बिलासपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एकतरफा रिलीव, सस्पेंड अधिकारी बहाल होकर पदस्थ हुए

नगर निगम में एक लंबे समय से दागी अफसरों की पोस्टिंग का खेल चल रहा है। जिस तरह से एक के बाद एक दागी अफसर बिलासपुर नगर निगम में पोस्टिंग कराने में सफल हो रहे हैं, उससे उनकी जुगाड़ टेक्नॉलाजी का पता चलता है। डिप्टी कमिश्नर और जोन कमिश्नर के पद पर आठ अधिकारी निगम में पदस्थापना पा चुके हैं, इनमें से अधिकांश के खिलाफ अनियमितता, भ्रष्टाचार और अनुशासनहीनता की शिकायतें हैं। एक मुख्य नगर पालिका अधिकारी के खिलाफ तो नगर निगम में कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों के पार्षद लामबंद हो गए थे, इसलिए कलेक्टर को उन्हें एकतरफा रिलीव करना पड़ा। नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष अशोक विधानी का आरोप है कि बिलासपुर नगर निगम को प्रयोगशाला बनाया जा रहा है और दागी अफसरों को लगातार भेजा जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यजनक बात है। अवैध प्लाटिंग, अवैध निर्माण के मामले में मिलीभगत के चलते भवन शाखा में बदलाव की दुहाई दी गई, परंतु शिकायतें उल्टे बढ़ गईं। हेमूनगर, पॉवर हाउस से लगे क्षेत्र में अवैध रूप से अस्पताल का निर्माण चल रहा है, परंतु नोटिस देकर मामला दबा दिया जाता है। बिल्डिंग सेक्शन से पिछले एक साल में एक भी मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई।

इन पर हैं अनियमितता और भ्रष्टाचार के आरोप
जिन अधिकारियों को बिलासपुर में पदस्थ किया गया है, उनमें एक अधिकारी के खिलाफ हाल ही में आरोप पत्र जारी किया गया है। डिप्टी कमिश्नर के पद पर पदस्थ इस अधिकारी को पूर्व में एक छोटी नगर पालिका निगम में कमिश्नर के पद पर पदस्थ किया गया था। अनियमितता के मामले में उनके विरुद्ध आरोप पत्र जारी हो चुका है। इन्हें निगम के साथ स्मार्ट सिटी की अहम जिम्मेदारी सौंपी गई है। एक कार्यपालन अभियंता गड़बड़ी पर सस्पेंड किए गए थे। उन्होंने जुगाड़ टेक्नॉलाजी के बल पर बिलासपुर में अपनी पोस्टिंग करवा ली। अब उन्हें एक जोन का कमिश्नर बना दिया गया है। एक डिप्टी कमिश्नर के विरुद्ध 2-2वेतन वृद्धि रोकने के आदेश हुए थे, वह यहां डिप्टी कमिश्नर के रूप में पदस्थापना पाने में सफल हो चुके हैं। जुगाड़ टेक्नॉलाजी के बल पर मध्यप्रदेश के एक अधिकारी कैडर चेंज करवाने में सफल रहे। पड़ोसी जिले से आए एक मुख्य नगर पालिका अधिकारी के खिलाफ वहां की नगर पालिका में इतना ज्यादा विरोध हो गया था कि कलेक्टर को उसे एकतरफा रिलीव कर तहसीलदार को नगर पालिका परिषद का चार्ज दिलवाना पड़ा। कलेक्टर के रिलीव करने के आदेश को इस अधिकारी द्वारा चुनौती देने की चर्चा टाउनहाल में गर्माई हुई है। निगम में उन्हें डिप्टी कमिश्नर के बतौर पदस्थापना दी गई है।

साल भर में 10 अफसर पदस्थ
अधिकारियों की कमी झेल रहे नगर निगम में साल भर के अंदर 8 अधिकारी व 10 इंजीनियरों की पदस्थापना की जा चुकी है। अधिकारियों के नाम इस प्रकार हैं- डिप्टी कमिश्नर -खजांची कुम्हार, राजेंद्र कुमार पात्रे, लाल अजय बहादुर सिंह, दिलीप तिवारी, जोन कमिश्नर प्रवेश कश्यप, खेल कुमार पटेल, प्रवीण शर्मा, सती यादव, सत्यनारायण गुप्ता, राजेश गुप्ता, नगरीय प्रशासन विभाग के एसई नीलोत्पल तिवारी आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं।

निगम के अफसरों का मुद्दा विधानसभा में उछला: नगर निगम के अफसरों की चर्चा विधानसभा तक में हो चुकी है। सीवेज हो या अमृत मिशन का प्रोजेक्ट, लेटलतीफी के लिए कुख्यात हो चुके हैं। जनता की परेशानियों को लेकर जनप्रतिनिधियों ने विधानसभा प्रश्न के माध्यम से प्रोजेक्ट के बारे में जानकारियां मांगी। अफसर विधानसभा को गलत जानकारी देने से नहीं चूके। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) के विधायक धर्मजाती सिंह ने पिछले सत्र में वर्षों से पदस्थ अफसरों के तबादले तक की मांग कर डाली। निगम से अधिकारियों के तबादले की कोशिश तत्कालीन नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल के कार्यकाल में हुई थी, परंतु यह प्रयोग सफल नहीं हो पाया। तबादले पर भेजे गए अफसर जुगाड़ टेक्नॉलाजी के बल पर वापस अपनी जगह पर लौट आएं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें