इस नवरात्र होंगे मां महामाया के दर्शन:वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट अनिवार्य, दूसरे शहर के लोग नहीं कर सकेंगे बम्लेश्वरी की पदयात्रा; GPM और कोरिया में भी नहीं होगा भंडारा

बिलासपुर/डोंगरगढ़/पेंड्रा/कोरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिछले शारदीय नवरात्र में कोरोना के चलते दर्शन पर प्रतिबंध लगाया गया था। - Dainik Bhaskar
पिछले शारदीय नवरात्र में कोरोना के चलते दर्शन पर प्रतिबंध लगाया गया था।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के रतनपुर स्थित मां महामाया के दर्शन इस बार हो सकेंगे। मंदिर कमेटी ने इस संबंध में फैसला लिया है, लेकिन इसके लिए कड़ाई से कोविड नियमों का पालन करना होगा। खासकर मंदिर दर्शन करने वाले लोगों को वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य होगा। वहीं राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ स्थित मां बम्लेश्वरी के दर्शन के लिए दूसरे शहर के लोग पैदल यात्रा नहीं कर सकेंगे। नवरात्र को लेकर गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) और कोरिया जिले के लिए भी गाइडलाइन जारी की गई है। जिसके तहत इन दोनों ही जिलों में इस बार माता का भंडारा आयोजित नहीं किया जाएगा।

मां महामाया मंदिर दर्शन के लिए मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष आशीष सिंह ठाकुर और मैनेजिंग ट्रस्टी सुनील सोनथलिया ने आदेश जारी किया है। इस आदेश में कहा गया है कि दर्शन के लिए वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य होगा। यदि किसी भक्त के पास सर्टिफिकेट नहीं है तो वे कोरोना की RTPCR निगेटिव रिपोर्ट भी दिखा सकते हैं।

सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक होंगे दर्शन

आदेश में कहा गया है कि श्रद्धालु मंदिर में माला, प्रसाद आदि निर्धारित स्थान में जमा कर काउंटर से प्रसाद प्राप्त कर सकेंगे। नवरात्र में सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक मां महामाया के दर्शन होंगे। सप्तमी के दिन भी रात 10 बजे तक ही दर्शन हो सकेंगे। यहां भी मंदिर समिति ने भक्तों से पदयात्रा नहीं करने की अपील की है। वहीं भंडारा, जगराता जैसे कार्यक्रम भी मंदिर में आयोजित नहीं किए जाएंंगे।

मां बम्लेश्वरी के दर्शन करने इस बार रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा।
मां बम्लेश्वरी के दर्शन करने इस बार रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा।

मां बम्लेश्वरी के लिए पदयात्रा करने वालों के लिए दुर्ग प्रशासन ने एक आदेश जारी किया है। इसमें बताया गया है कि इस बार दूसरे शहर से आने वाले भक्तों के लिए पैदल यात्रा पर प्रतिबंध रहेगा। दुर्ग होकर जाने वाले श्रद्धालु वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट, 72 घंटे पहले कराई गई कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट के साथ ही डोंगरगढ़ की ओर वाहन से ही प्रस्थान कर सकेंगे। 10 दिन पहले ही गाइडलाइन जारी कर दी गई थी, जिसमें बताया गया था कि मां बम्लेश्वरी के दर्शन श्रद्धालु इस नवरात्र कर सकेंगे। इसके लिए ऐप से रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा।

दुर्ग से डोंगरगढ़ की तरफ से जाने वाले मुख्य मार्ग में पुलिस ने इस तरह से एक बोर्ड लगाया है।
दुर्ग से डोंगरगढ़ की तरफ से जाने वाले मुख्य मार्ग में पुलिस ने इस तरह से एक बोर्ड लगाया है।

गाइडलाइन में ये थे प्रतिबंध

  • मां बम्लेश्वरी मंदिर में परंपरागत रूप से माता की पूजा-अर्चना नहीं की जाएगी, केवल दर्शन की अनुमति होगी।
  • मां बम्लेश्वरी मंदिर के 10 किमी पहले मुरमुंदा, चिचोला और अन्य डोंगरगढ़ आने वाले रास्तों में चेक प्वाइंट बनाए जाएंगे।
  • सभी दर्शनार्थियों को कोविड जांच रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा। टीके के दोनों डोज लगवाएं हैं, उनको सर्टिफिकेट जांच के बाद ही प्रवेश की अनुमति होगी।
  • मां बम्लेश्वरी मंदिर दर्शन के लिए ऐप तैयार किया जाएगा, जिसमें रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा।
  • रेल यात्रियों को रेलवे स्टेशन से कोविड-19 जांच के बाद ही आने की अनुमति होगी
7 अक्टूबर से शुरू हो रहे नवरात्र के लिए कलाकार माता की मूर्तियों को अंतिम रूप दे रहे हैं।
7 अक्टूबर से शुरू हो रहे नवरात्र के लिए कलाकार माता की मूर्तियों को अंतिम रूप दे रहे हैं।

GPM और कोरिया जिले के लिए ये है गाइडलाइन

  • मूर्ति की अधिकतम ऊंचाई 8 फीट होगी।
  • प्लास्टर ऑफ पेरिस से मूर्तियों पर प्रतिबंधित।
  • पंडाल का आकार 15 बाय 15 फीट से अधिक नहीं होना चाहिए।
  • पंडाल के सामने कम से कम 500 वर्ग फीट की जगह खुली हुई होनी चाहिए।
  • पंडाल की वजह से गली या सड़क का यातायात प्रभावित न हो।
  • मंदिरों में तय जगहों पर ज्योत जलेगी।
  • ज्योत दर्शन के लिए आम लोगों को एंट्री नहीं दी जाएगी।
  • पंडाल के सामने दर्शकों के बैठने के लिए कोई अलग से इंतजाम नहीं होगा।
  • एक समय में पंडाल के सामने 50 से अधिक व्यक्ति जमा नहीं हो सकेंगे।
  • मूर्ति दर्शन, पूजा के लिए शामिल होने वाले लोगों को बिना मास्क एंट्री नहीं मिलेगी।
  • मूर्ति स्थापित करने वाले लोगों या समिति को सैनिटाइजर, स्कैनिंग, ऑक्सीमीटर, हैंड वॉश, क्यू मैनेजमेंट का इंतजाम करना होगा।
  • विसर्जन के समय किसी भी प्रकार का भोज भंडारा नहीं होगा।
  • इसी तरह की गाइडलाइन रायपुर समेत दूसरे जिलों के लिए भी जारी हुए हैं।
मां दंतेश्वरी के दर्शन करने प्रदेश से ही नहीं, दूसरे राज्य से भी लोग पहुंचते हैं।
मां दंतेश्वरी के दर्शन करने प्रदेश से ही नहीं, दूसरे राज्य से भी लोग पहुंचते हैं।

मां दंतेश्वरी के भी होंगे दर्शन

दंतेवाड़ा स्थित मां दंतेश्वरी के दर्शन की भी अनुमति मंदिर कमेटी ने दी है। इसके पहले मंदिर कमेटी ने दर्शन की अनुमित नहीं दी थी। लेकिन मंगलवार को बैठक के बाद माता दर्शन के लिए आदेश जारी कर दिेए गए। यह दूसरा साल और चौथा नवरात्र था, जिसमें भक्तों के लिए आराध्य देवी मां दंतेश्वरी मंदिर के पट बंद रहने वाले थे। लेकिन, भक्तों की आस्था का ख्याल रख कमेटी ने दूसरी बैठक रख सर्व सहमति से पूरे 9 दिनों तक मंदिर खोलने का निर्णय लिया है। कलेक्टर दीपक सोनी ने बताया कि कोरोना के कारण इस बार नवरात्र पर्व पर मंदिर में भक्तों के प्रवेश पर रोक लगाई गई थी। भक्तों को माता के लाइव दर्शन करवाए जाते। अब नवरात्र पर श्रद्धालु मंदिर पहुंच माता के दर्शन कर सकेंगे। मगर मीना बाजार, सांस्कृतिक कार्यक्रम की इजाजत नहीं होगी।

खड़गवां स्थित मां महामाया मंदिर चन्वारीडांड में भी नवरात्र पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं।
खड़गवां स्थित मां महामाया मंदिर चन्वारीडांड में भी नवरात्र पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं।
खबरें और भी हैं...