ठगी का मामला:इंजीनियर से नक्शा बनवाने के नाम पर ऑनलाइन ठगी

बिलासपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

फोन करने वाले ने इंजीनियर से खुद को भारतीय सेना का जवान बताया और मकान का नक्शा बनवाने का झांसा देकर 99 हजार 379 रुपए की ऑनलाइन ठगी कर ली। मामला सकरी थाना क्षेत्र का है। उसलापुर सांई नगर निवासी पीयूष दुबे पिता शशिकांत दुबे (31) सिविल इंजीनियर हैं। 12 मई को उनके मोबाइल पर फोन आया। कॉल करने वाले ने अपना नाम प्रवीण कुमार बताया।

कहा कि वह भारतीय सेना का जवान बताते हुए कहा कि मुंबई एअरपोर्ट में पदस्थ है। उसने नेहरू नगर बिलासपुर में दो मंजिला मकान के निर्माण के लिए नक्शा और थ्री डी फ्रंट एलिवेशन बनवाने की इच्छा जताई। उसने वाट्सअप मैसेज किया। सिविल इंजीनियर ने इस मैसेज का उसे जवाब दिया। इसके जवाब में फोन करने वाले ने वाट्सअप कॉल किया और खुद को सेना का जवान बताते हुए फीस में कुछ छूट देने की मांग की। जवाब में इंजीनियर ने 3 हजार रुपए की छूट देते हुए 7 हजार रुपए में मकान का नक्शा और थ्री डी एलिवेशन बनाना तय किया।

इंजीनियर ने उससे एडवांस में पैसे मांगे तो वह मुंबई में होने का हवाला देकर सेना के सैलरी कार्ड से ऑनलाइन रुपए भेजने के लिए क्यू आर कोड मांगा। इंजीनियर ने वाट्सअप किया। शुक्रवार 13 मई की शाम करीब 6 बजे उसने वाट्सअप पर कॉल किया। कहा वह अपने अधिकारी के सामने बैठा है। उसने अपने सैलरी कार्ड से इंजीनियर को 7 हजार रुपए देने की बात कही।

कथित अधिकारी ने फोन पर बात की और 1 रुपए उनके खाते में भेजने की जानकारी दी। उन्हें अपना यूपीआई पिन डाल कर अप्रूव करने के लिए कहा। इंजीनियर ने जब पिन डालने का कारण पूछा तो कहा कहा कि यह भारतीय सेना का सैलरी कार्ड है। इस वजह से उन्हें बैंक खाते में पैसा लेने के लिए भी पिन डालना होता है। पिन डालने के बाद इंजीनियर के खाते से 12 बार में 99 हजार 379 रुपए निकल गए।

खबरें और भी हैं...