मेडिकल दुकान की आड़ में नशे का कारोबार:डॉक्टर की परची के बिना ही बेचता था; नशीली कफ सिरप और टेबलेट बरामद; संचालक गिरफ्तार

बिलासपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेडिकल स्टोर संचालक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। - Dainik Bhaskar
मेडिकल स्टोर संचालक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में मेडिकल स्टोर की आड़ में प्रतिबंधित नशीली दवाईयां बेचने वाले दुकान संचालक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसके पास से बड़ी मात्रा में कफ सिरप व टेबलेट बरामद किया गया है, जिसे वह डॉक्टर की परची के बिना ही लोगों को बेच रहा था। उसके खिलाफ NDPS एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। मामला सीपत थाना क्षेत्र का है।

पुलिस को सूचना मिल रही थी कि नवाडीह में राज मेडिकल स्टोर में नशे का सामान बेचा जा रहा है। नियमानुसार प्रतिबंधित व नशीली दवाईयां बेचने के लिए मेडिकल स्टोर में डॉक्टर की परची जरूरी है। लेकिन, यहां युवाओं को नशे के रूप में कफ सिरप व टेबलेट बेचने का अवैध धंधा चल रहा है। इस सूचना पर प्रशिक्षु IPS व TI विकास कुमार ने अपनी टीम के साथ राज मेडिकल स्टोर में छापेमारी की। इस दौरान दुकान संचालक मनोज कुमार गुप्ता (48 साल) बगैर डॉक्टर की पर्ची प्रतिबंधित कफ सिरप और प्रतिबंधित दवाईयां बेच रहा था।

युवाओं को डॉक्टर की परची के बिना बेची जा रही थी प्रतिबंधित नशीली दवा
युवाओं को डॉक्टर की परची के बिना बेची जा रही थी प्रतिबंधित नशीली दवा

तलाशी में मिले 291 कफ सिरप और 147 प्रतिबंधित टेबलेट
जांच के दौरान पुलिस ने दुकान की तलाशी ली, तब कोरेक्स, रिलेक्सोकॉफ सहित 294 प्रतिबंधित कफ सिरप और स्पॉस ट्रेनकॉन, स्पॉस मो नील सहित 147 प्रतिबंधित टेबलेट बरामद किया। पूछताछ में दुकान संचालक ने स्वीकार किया कि वह डॉक्टर की परची के बिना ही प्रतिबंधित नशीली दवाईयां बेच रहा था। उसके खिलाफ NDPS एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए उसे गिरफ्तार किया गया है।

जिम्मेदार फूड एंड ड्रग कंट्रोल विभाग को नहीं है परवाह
प्रतिबंधित दवाईयां बेधड़क मेडिकल दुकानों से बेची जा रही है, जहां से नशेड़ियों को ये दवाईयां आसानी से मिल जा रही हैं। वहीं, दूसरी ओर इसकी जांच करने वाला जिम्मेदार खाद्य एवं औषधि प्रशासन की टीम इसे लेकर गंभीर नहीं है। यही वजह है कि मेडिकल स्टोर की आड़ में नशीली दवााएं बेचने का धंधा चल रहा है।

खबरें और भी हैं...