खरीदी केंद्र से 54 लाख का धान और बारदाना गायब:दोनों प्रभारी और डाटा इंट्री ऑपरेटर ने मिलकर किया हेरफेर; तीनों के खिलाफ FIR

बिलासपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रतनपुर पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज किया है। - Dainik Bhaskar
रतनपुर पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज किया है।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक धान खरीदी केंद्र से 54 लाख रुपए का धान और बारदाना गायब मिला है। कहा जा रहा है कि धाना खरीदी प्रभारी, बारदाना प्रभारी और डाटा इंट्री ऑपरेटर ने मिलकर यहां हेरफेर किया है। जिसके चलते इतनी बड़ी कीमत का धान और बारदाना गायब है। इसकी शिकायत के बाद पुलिस ने तीनों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

दरअसल, चपोरा धान खरीदी केंद्र में खरीफ विपणन वर्ष 2021-2022 में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की गई थी। इसकी जब एनआईसी रिपोर्ट तैयार की गई, तब उसमें पता चला कि 41 लाख 96 हजार 500 रुपए का धान ही गायब है। इसके अलावा 11 लाख 62 हजार रुपए का बारदाना भी गायब मिला है। कुल मिलाकर लगभग 54 लाख का हिसाब गड़बड़ मिला। इस पर धान खरीदी केंद्र प्रभारी, बारदाना प्रभारी और डाटा इंट्री ऑपरेटर से पूछताछ की गई थी।

पूछताछ में तीनों ही सही जवाब नहीं दे सके। इसके बाद मामले की जांच विभाग ने की थी। विभाग की जांच में में यह पता चला की तीनों ने मिलकर यह पूरी धांधली की है। जिसके बाद रतनपुर थाने में इस मामले में शिकायत की गई थी। शिकायत के बाद पुलिस ने धान खरीदी केंद्र व फड़ प्रभारी नरेंद्र जायसवाल, बारदाना प्रभारी प्रवीण कुमार जोशी और डाटा एंट्री ऑपरेटर पवन कुमार निर्मलकर के खिलाफ अमानत में खयानत का केस दर्ज किया है। आदिवासी सेवा सहकारी समिति चपोरा शिवकुमार अरविंद ने इस मामले की शिकायत पुलिस से की थी।

खबरें और भी हैं...