मालगाड़ी दुर्घटना के बाद से स्थिति गड़बड़ाई:शिवनाथ एक्सप्रेस में सफर करने के लिए यात्रियों को आधी रात तक प्लेटफार्म पर इंतजार करना पड़ रहा

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • त्योहारी सीजन होने की वजह से ट्रेन को रद्द करना मुश्किल

सालेकसा-दरेकसा रेलवे स्टेशन के बीच मालगाड़ी दुर्घटना के 5 दिन बाद भी शिवनाथ एक्सप्रेस और इंटरसिटी एक्सप्रेस 5 - 5 घंटे विलंब से चल रही है। शिवनाथ एक्सप्रेस में सफर करने वाले यात्रियों को ट्रेन के इंतजार में आधी-आधी रात तक प्लेटफार्म पर जागकर गुजारना पड़ रहा है।

यहां से जितनी लेट शिवनाथ एक्सप्रेस इतवारी स्टेशन पहुंचती है उतनी ही लेट वहां से इंटरसिटी छूट रही है। त्योहार का सीजन है इसलिए इस ट्रेन को रद्द भी नहीं किया जा रहा है। हालांकि विलंब का समय हर दिन 1-1 घंटे घटता जा रहा है। सालेकसा-दरेकसा रेलवे स्टेशन के बीच 22 अक्टूबर को मालगाड़ी पलट गई थी। इससे दो दिन तक एक लाइन पर ट्रेन यातायात बाधित रहा। इसी में शिवनाथ एक्सप्रेस भी प्रभावित होकर पहले दिन 8 घंटे विलंब से बिलासपुर पहुंची थी। बिलासपुर लेट पहुंचने की वजह से वह कोरबा भी लेट से गई। इससे इतवारी जाने वाली इंटरसिटी भी प्रभावित हुई।

इसके बाद दोनों ट्रेनें दो दिन तक 8-8 घंटे तक विलंब से चली। इसके बाद दूसरे दिन 7 घंटे, तीसरे दिन 6 घंटे और बुधवार को 5 घंटे विलंब से पहुंची। सुबह 7 बजे आने वाली ट्रेन दोपहर 2 बजे बिलासपुर पहुंच रही है। इसके बाद इसे धुलाई और मेंटेनेंस के बाद शाम 6 बजे गेवरा रवाना किया जाता है वहां से यह शिवनाथ एक्सप्रेस बनकर आती है। गेवरा रोड से आने वाली शिवनाथ एक्सप्रेस का टाइम रात 8.20 बजे का है लेकिन पिछले 6 दिन से यह ट्रेन रात 1.30 बजे के लगभग बिलासपुर पहुंच रही है। इस ट्रेन का सही लोकेशन रेलवे के किसी भी एैप में नहीं मिलता है इसलिए इसमें सफर करने वाले यात्री ट्रेन के टाइम पर प्लेटफार्म पर पहुंच जाते हैं। इसके बाद उन्हें इसके विलंब होने की जानकारी मिलती है तो उन्हें आधी रात तक स्टेशन में ही बिताना पड़ रहा है। रेलवे प्रशासन की अव्यवस्था के कारण मच्छरों के बीच लोग स्टेशन में रात बिताने मजबूर हो रहे।

खबरें और भी हैं...