पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

9 हजार से अधिक लोगों ने दावा-आपत्ति की:45 करोड़ का भुगतान रुका, एलआईसी अधिकारी कार्यालय खोलना चाह रहे

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संघ ने कहा किस्त जमा नहीं होने से रिस्क कवर समाप्त हो रहा

कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन है। ऐसे में बैंक, दवा दुकान, रजिस्ट्री कार्यालय, डाक विभाग खुल रहे हैं। भारतीय जीवन बीम निगम कार्यालय बंद हैं। इसके कारण एलआईसी की किश्त जमा नहीं हो पा रही है। लोगों द्वारा किया गया क्लेम नहीं मिल पा रहा है। अधिकारियों के अनुसार बिलासपुर मंडल में 9 हजार से अधिक लोगों ने दावा-आपत्ति की है।

इनका लगभग 45 करोड़ 31 लाख रुपए भुगतान नहीं हो पाया है। एलआईसी अधिकारियों द्वारा कार्यालय खोलने जिला प्रशासन को दो से अधिक बार पत्र लिखा जा चुका है। भारतीय जीवन बीमा अभिकर्ता संघ लियाफी ने भी कार्यालय खोलने जिला प्रशासन से मांग की है।भारतीय जीवन बीमा अभिकर्ता संघ लियाफी बिलासपुर मंडल के अध्यक्ष इमरान आलम ने कहा कि भारतीय जीवन बीमा निगम से संबंधित सरकारी एवं अधिकृत निजी कार्यालय को खुलने की अनुमति मिलनी चाहिए, क्योंकि भारतीय जीवन बीमा निगम भी गृह मंत्रालय के अनुसार एक आवश्यक सेवा संस्थान है।

भारतीय जीवन बीमा निगम के सरकारी कार्यालय के साथ निजी सेवा केंद्र के बंद रहने के कारण बीमा धारकों का पालिसी का किस्त नहीं जमा हो पा रहा है। जिसके कारण पालिसिया कालतीत हो रही हैं। रिस्क कवर समाप्त हो जा रही है। ऐसी अवस्था में पालिसीधारक की मृत्यु हो जाने पर कालतित पॉलिसी का मृत्यु दावा भुगतान नहीं हो पाता। कार्यालय के बंद होने पालिसीधारक मृत्यु दावा प्रस्तुत नहीं कर पा रहा है। वर्तमान परिस्थिति में पालिसीधारक को आकस्मिक चिकित्सा के लिए आर्थिक आवश्यकता पड़ने पर वो पालिसी से ऋण लेने में भी असमर्थ है।

खबरें और भी हैं...